The Prime Minster, Shri Narendra Modi today addressed the nation from the ramparts of the Red Fort on the 72nd Independence Day. Following are the highlights from his speech:

  • Today, the country is full of self-confidence. The country is scaling new heights by working extremely hard with a resolve to scale new heights.
  • We have been celebrating this festival of independence, at a time when our daughters from states of Uttarakhand, Himachal, Manipur, Telangana and Andhra Pradesh have come back after circumnavigating the seven seas. They have come back amongst us by (unfurling tricolour in seven seas) turning the seven seas into the colour of our Tricolor.
  • Our young tribal children, those who live in our forests in the far-flung areas, they have enhanced the glory of the tri-colour by unfurling it on the Mount Everest.
  • Whether it is a Dalit or be it someone who has been persecuted or exploited or be it a deprived person or women, our Parliament has made the social justice even morestronger with all the sensitivity and alertness to protect their interests.
  • The demand to give constitutional status to the OBC commission had been raised for years. This time our Parliament has made an effort to protect the interests of backward classes, interests of the extremely backward classes by according the constitutional status to the OBC commission.
  • I want to reassure the people who have lost their loved ones and are facing a lot of distress due to floods that the country is with them and is making complete efforts for helping them out. My heartfelt condolences are with those who have lost their loved ones.
  • The next year will mark 100 years of the Jalliwanwallahbagh massacre. The masses had sacrificed their lives for the country's freedom; and the exploitation had crossed all limits. The Jalliwanwallahbagh incident inspires us of the sacrifices made by those brave hearts. I salute all those brave hearts from the bottom of my heart.
  • India has become the sixth largest economy of the world.
  • Today I salute those brave freedom fighters from the core of my heart on behalf of my countrymen. Our soldiers, the para-military forces and the Police are laying down their lives and are in service of the people of the country day in and day out for maintaining the splendour and dignity of the National flag, the tricolour.
  • After independence, an highly inclusive constitution was drafted under the leadership of Baba SahebAmbedkar. It came with the resolve of making a new India.
  • India should be self-reliant, strong, always on the path of sustainable development.  There should not only be a credence for India, but we also want that India should be effective in the world, we make India like that.
  • When dreams, hard work and aspirations of 125 crores people come together, what can’t be achieved?
  • 125 crores Indian did not just stop at forming the government in 2014, instead, they continuously strived to make the country better. This is the strength of India.
  • If you take into consideration the work that has been done in the last four years, you will be surprised to see the speed at which the country is moving and the pace at which the progress is being made.
  • Had we worked at the speed of 2013 , it would have taken centuries in making India 100% open defecation free or electrifying every part or even providing the LPG gas connection to every woman in rural and urban areas. Had we worked with the speed of 2013, an entire generation would have taken to connect the country with optical fibre. We will go by such speed to achieve all these goals. 
  • The country is experiencing change in the last four years. The country is progressing with new zeal, enthusiasm and courage.  Today the country is constructing twice the highways and four times more houses in the villages. 
  • The country is producing record foodgrains and manufacturing record number of mobile phones. The sale of tractors has reached a new high. 
  • After independence the country is buying largest numbers of airplanes. 
  • The new IIMs, IITs and AIIMS are being established in the country. 
  • The mission of Skill Development is being encouraged by establishing new centres in small places.
  • Start-up programmes have mushroomed in Tier II and Tier III cities.
  • Efforts are in progress to compile a ‘common sign’ dictionary for disable persons.
  • Modernisation and technology has entered into the field of agriculture.  Our farmers are using micro irrigation, drip irrigation and sprinkler irrigation methods.
  • On the one hand, our soldiers help those who are at the brink of catastrophe with sympathy and empathy and on the other hand they are capable of attacking the enemies with surgical strikes.
  • We should always progress with new objectives.  When our goals are not clear, progress is not possible.  We will not be in a position to solve the various problems for years together.
  • We have decided with great courage to give attractive prices for the products of farmers.  The minimum support price for many crops has been increased to more than 1.5 times the input costs.  
  • With the help of small traders, their openness and their aptitude to accept new things, the country has successfully implemented the GST.  It has brought a new confidence among the traders. 
  • Benami Property Law has been implemented with great courage and intention for the good of the country.
  • There was a time when the world used to call India’s economy risky. However, today, the same people and institutions have been saying with a lot of confidence that our reform momentum has been strengthening our fundamentals.
  • There was a time when the world used to talk of Red Tape’.  However, today the issue of ‘Red Carpet’ is being discussed. We have reached 100th position in the ‘ease of doing business’ ranking. Today, the entire world is looking at our achievement with pride.
  • There was a time when for the world India meant - ‘policy paralysis’ and ‘delayed reforms’. However, today India is being discussed for – ‘reform, perform and transform’.
  • There was a time when the world counted India among the ‘fragile five’. However, today the world has been saying that India has become the destination for multi-trillion dollar investment. 
  • It is being said about India’s economy that the ‘sleeping elephant’ has woken up and has started racing. The world economists and institutions have observed that for the next three decades India would contribute momentum to the global economic strength. 
  • India’s stature has increased at the international forums, India has voiced its opinions strongly on such forums. 
  • Earlier India was awaiting membership of various international organisations.  Now innumerable institutions have come forward to give membership to India.  India has become a hope for all the other countries as far as global warming is concerned.  International solar alliance is being welcomed throughout the world. 
  • Today we see a magnificent impression of North East in the field of sports.
  • The last village in the North East has been electrified.
  • We are getting progressive news about highways, railways, airways, waterways and information ways (I-ways) from North East.
  • Our youths from the North East are establishing BPO in their areas.
  • The North East region has turned to be a hub of organic farming.  Sports university is being set up in North East.
  • There was a time when North East felt distant from Delhi but within last four years we have succeeded to get Delhi to the threshold of North East.
  •  In our country 65% of our population consists of 35 year old people.  Our youth has brought a paradigm shift in the nature of job.  Whether it is startup, BPO or e-commerce or the field of mobility, our youth has entered into new fields.  Now a days our youth is committed to take this country to new heights.
  • 13 crore people have availed MUDRA LOAN which is a great achievement.  Of this 4 crore are youth who have availed loan for the very first time and are self-employed and progressing independently. This in itself is an example of changing atmosphere.Our youth are managing common service centres in three lakh villages and they are linking every village and citizen with the world in seconds by utilizing information technology.
  • With the spirit of innovation our scientists, we are going to launch ‘NAVIC’ which will be very useful for the fishermen and others.
  • India has resolved to send manned spacecraft to the space by 2022.  India will be the fourth country to do this.
  • Now we are focussed on bringing modernisation and advancement in the field of agriculture.   We have dreamt of doubling farmer’s income by 75th year of Independence.
  • We want to expand the horizons of agriculture with the help of modernization.  We want to adopt value addition right from ‘seeds - to –market’.  For the first time we are progressing in the path of Agriculture Export Policy so as to enable our farmers to emerge powerful in the world market.
  • Now new avenues of organic farming, blue revolution, sweet revolution, solar farming have emerged on which we plan to move ahead.
  • In fisheries, India has emerged second largest country of the world. 
  • The export of honey has doubled. 
  • It is a matter of pleasure for the sugarcane farmers that the production of ethanol has tripled.
  • In rural economy, the other sectors are also important.  We want to increase the resources of rural area, with the creation of women self-help groups, mobilizing billions of rupees.  We want to enhance the efficiency of villages and we are making efforts in this direction.
  •  Now the sale of Khadi has doubled.
  • Our farmers are now focussing on solar farming.  Due to this he can contribute to agriculture and at the same time earn money by sale of solar energy.
  • Along with economic progress and development, we also want to focus on dignity of human life which is supreme.  Hence we are also planning to continue with those schemes which enable a common man to lead his life with pride, respect and dignity.
  • According to WHO report 3 lakh children have been saved because of Swachchta Campaign. 
  • Taking inspiration from Gandhiji who had organized satayagrahis, we have succeed to mobilize ‘Swatchagrahis’.  On the occasion of 150th birth anniversary crores of “Swatchagrahis’ plan to pay tribute in deed and action to respected Bapuji in the form of Swatch Bharat.  
  • In order to provide free health services to the poorest people, Government of India has launched Pradhan Mantri Jan ArogyaYojanaAbhiyan.  Now under this scheme any person can get relief from diseases by going to the good hospitals.
  • Under the scheme Ayushman Bharat 10 crore families are able to get health insurance benefits, it means nearly 50 crore citizens will be covered. Each family will get 5 lakh rupees health coverage annually. 
  • We give utmost importance to technology and transparency.  Technology intervention will remove the hurdles for the common man in accessing various facilities. With this objective technology tools have been developed.
  • Pradhan Mantri Jan ArogyaAbhiyan will be launched on 25th September, 2018 as a result from now on, common man need not suffer from problems of dreaded diseases.
  • New avenues are emerging for middle class families and youth in the field of health.  New hospitals will be constructed in 2 tier and 3 tier cities.  Medical staff will be established in huge numbers.  Employment opportunities will be more in the years to come.
  • During the period of four years we tried to empower the poor.  One international organisation has reported that during the last two years, 5 crore poor people have crossed the poverty line.  There are several schemes for empowerment of poor.  But the middlemen are taking away the benefits and poorer people are unable to get the benefits.
  • Government is making efforts to close all the leakages.  We are on the path of removal of corruption and black-money.  Due to all these efforts we were able to mobilize 90000 crore money to the Government Exchequer.
  • The honest pay taxes.  With their contribution schemes are implemented.  The credit goes to taxpayer and not to the Government.
  • Upto 2013, for the past 70 years the direct tax payers were only 4 crore people.  Now the numbers has doubled and grown to 7.25 crores.
  • For the period of 70 years, indirect tax officials were able to mobilize 70 lakhs of revenue.  Whereas by implementation of GST, within a year we were able to mobilize 16 lakhs of revenue.
  • We can tolerate black money and corruption.  Let there be many obstacles.  But I can’t leave them.  Now power brokers are not visible in the streets of Delhi.
  • In order to maintain transparency we have launched online process.  We have utilized Information Technology to the maximum level.
  • Through Short Service Commission, we will appoint women officers in the Armed Forces of India.  Transparency will be maintained in this process.  Women officials will be treated at par with male counterparts.
  • Rape is painful.  But the agony experienced by the victim is more painful.  This should be realized by the people of this country. Everybody should feel the trauma.
  • We have to liberate this country, and society from the clutches of this demonic attitude.  Law is doing it’s own business.  We have to make efforts to attack this attitude.  We have to attack this type of thinking.  We should remove these types of perversion. 
  • Triple Talak has endangered the lives of Muslim women.  Those who did not get Talak (divorce) are also sailing in the same boat.   We made an effort to alleviate the grief of Muslim women by bringing an act in the Monsoon Session of Parliament.  But even today there are some people who do not want to pass the Bill.
  • Due to the efforts of security forces and endeavours made by State Governments, and also due to the implementation of Central and State Government developmental schemes and the people’s participation, Tripura and Meghalaya have been liberated from the Armed Forces Special Power Act.
  • The way shown to us by Atal Bihari Vajpayee in the matters of Jammu and Kashmir is the best way.  We would like to go in the same path.  We do not want the path of bullets and abuses.  We have to embrace the patriotic people of Kashmir, and proceed further.
  • In the months to come, rural people of Jammu and Kashmir will be able to enjoy their rights.  They will be able to take care of themselves.  Government of India gives enough money to Gram Panchayaths which will be useful for development.  We have to arrange for the elections to panchayats and local institutions.  We are progressing in this direction.
  • Every Indian dreams to have his own house, therefore we bring in "Housing for All.". He wants to get his house electrified, therefore there is Electrification for all Villages. Every Indian wants to get rid of smoke in the kitchen. To achieve this there is cooking gas for all. Every Indian requires safe drinking water. Therefore our aim is to get water for all. Every Indian requires a toilet, hence our objective is to ensure sanitation for all. Every Indian requires skill development. Hence we have brought in skill development for all. Every Indian needs quality health service. So, our endeavour is health for all. Every Indian requires security for which he needs a health insurance coverage. To meet this need, we bring insurance for all. Every Indian requires internet facility. Therefore we are making efforts to get connectivity for all. We want to lead our country towards the path of development by following the mantra of connectivity.
  • We don’t want the path of confrontation. We do not want roadblocks. We don’t want to bow our head before anybody. The nation will never stop, never bow before anything,never get tired. We have to scale new heights. It is our aim to achieve enormous progress in the years to come.

 

                                                                *****

Read more: PM’s Independence Day Speech 2018- Highlights in...

मेरे प्‍यारे देशवासियों,

आज़ादी के पावन पर्व की आप सबको अनेक-अनेक शुभकामनाएं।

आज देश एक आत्‍मविश्‍वास से भरा हुआ है। सपनों को संकल्‍प के साथ परिश्रम की पराकाष्‍ठा कर-करके देश नई ऊंचाईयों को पार कर रहा है। आज का सूर्योदय एक नई चेतना, नई उमंग, नया उत्‍साह, नई ऊर्जा ले कर आया है।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, हमारे देश में 12 वर्ष में एक बार नीलकुरिंजी का पुष्‍प उगता है। इस वर्ष दक्षिण की नीलगिरी की पहाडि़यों पर यह हमारा नीलकुरिंजी का पुष्‍प जैसे मानो तिरंगे झंडे के अशोक चक्र की तरह देश की  आज़ादी के पर्व में लहलहा रहा है।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, आज़ादी का यह पर्व हम तब मना रहे हैं, जब हमारी बेटियां उत्‍तराखंड, हिमाचल, मणिपुर, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश - इन राज्‍यों की हमारी बेटियों ने सात समंदर पार किया और सातों समंदर को तिरंगे रंग से रंग करके वह हमारे बीच लौट आईं।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, हम आज़ादी का पर्व आज उस समय मना रहे हैं, जब एवरेस्‍ट विजय तो बहुत हुए, अनेक हमारे वीरों ने, अनेक हमारी बेटियों ने एवरेस्‍ट पर जा करके तिरंगा झंडा फहराया है। लेकिन इस आज़ादी के पर्व में मैं इस बात को याद करूंगा कि हमारे दूर-सुदूर जंगलों में जीने वाले नन्‍हें-मुन्‍ने आदिवासी बच्‍चों ने इस बार एवरेस्‍ट पर तिरंगा झंडा फहरा करके तिरंगे झंडे की शान और बढ़ा दी है।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, अभी-अभी लोकसभा, राज्‍यसभा के सत्र पूरे हुए हैं।  आपने देखा होगा कि सदन बहुत अच्‍छे ढंग से चला  और एक प्रकार से संसद के यह सत्र पूरी तरह सामाजिक न्‍याय को समर्पित था। दलित हो, पीडि़त हो, शोषित हो, वंचित हो, महिलाएं हो उनके हकों की रक्षा करने के लिए हमारी संसद ने संवेदनशीलता और सजगता के साथ सामाजिक न्‍याय को और अधिक बलतर बनाया।

ओबीसी आयोग को सालों से संवैधानिक स्थान के लिए मांग उठ रही थी। इस बार संसद ने पिछड़े, अति पिछड़ों को, उस आयोग को संवैधानिक दर्जा दे करके, एक संवैधानिक व्‍यवस्‍था दे करके, उनकी हकों की रक्षा करने का प्रयास किया।

हम आज उस समय आज़ादी का पर्व मना रहे हैं, जब हमारे देश में उन खबरों ने देश में नई चेतना लाई,  जिनसे हर भारतीय जो दुनिया के किसी भी कोने में क्यों न रहता हो, आज इस बात का गर्व कर रहा है,कि भारत ने विश्‍व की छठी बड़ी Economy में अपना नाम दर्ज करा दिया है। ऐसे एक सकारात्‍मक माहौल में, सकारात्‍मक घटनाओं की श्रृंखला के बीच आज हम आज़ादी का पर्व मना रहे हैं।

देश को आज़ादी  दिलाने के लिए पूज्‍य बापू के नेतृत्‍व में लक्षावधि लोगों ने अपना जीवन खपा दिया, जवानी जेलों में गुज़ार दी। कई क्रांतिकारी महापुरुषों ने फांसी के तख्‍ते पर लटक करके देश की आज़ादी के लिए फांसी के फंदों को चूम लिया। मैं आज देशवासियों की तरफ से आज़ादी के इन वीर सेनानियों को हृदयपूर्वक नमन करता हूं, अंत:पूर्वक  प्रणाम करता हूं जिस तिरंगे झंडे की आन-बान-शान, हमें जीने-जूझने की, मरने-मिटने की प्रेरणा देता है,जिस तिरंगे की शान के लिए देश की सेना के जवान अपने प्राणों की आहूति दे देते हैं,  हमारे अर्धसैनिक बल जिंदगी खपा देते हैं, हमारे पुलिस बल के जवान सामान्‍य मानवी की रक्षा के लिए दिन-रात देश की सेवा में लगे रहते हैं।

मैं सेना के सभी जवानों को,  अर्धसैनिक बलों को, पुलिस के जवानों को, उनकी महान सेवा के लिए, उनकी त्‍याग-तपस्‍या के लिए, उनके पराक्रम और पुरुषार्थ के लिए आज तिरंगे झंडे की साक्ष्य़ में लालकिले की प्राचीर से शत-शत नमन करता हूं और उनको बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं।

इन दिनों देश के अलग-अलग कोने से अच्‍छी वर्षा की खबरें आ रही हैं, तो साथ-साथ बाढ़ की भी खबरें आ रही हैं। अतिवृष्टिऔर बाढ़ के कारण जिन परिवारों को अपने स्‍वजन खोने पड़ें हैं, जिन्‍हें मुसीबतें झेलनी पड़ी हैं, उन सबके प्रति देश पूरी शक्ति से उनकी मदद में खड़ा है और जिन्‍होंने अपनों को खोया है, उनके दुख में मैं सहभागी हूं।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, अगली बैसाखी हमारे जलियावालां बाग के नरसंहार को सौ वर्ष हो रहे हैं। देश के सामान्‍य लोगों ने देश की आज़ादी  के लिए किस प्रकार से जान की बाजी लगा दी थी औऱ ज़ुल्‍म की सीमाएं कितनी लांघ चुकी थी। जलियावालां बाग हमारे देश के उन वीरों के त्‍याग और बलिदान का का संदेश देता है। मैं उन सभी वीरों को हृदयपूर्वक, आदरपूर्वक नमन करता हूं।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, ये आज़ादी  ऐसे ही नहीं मिली है। पूज्‍य बापू के नेतृत्‍व में अनेक महापुरुषों ने, अनेक वीर पुरुषों ने, क्रांतिकारियों के नेतृत्‍व में अनेक नौजवानों ने, सत्‍याग्रह की दुनिया में रहने वालों ने जवानी जेलों में काट दी। देश को आज़ादी दिलाई, लेकिन आज़ादी  के इस संघर्ष में सपनों को भी संजोया है। भारत के भव्‍य रूप को भी उन्‍होंने मन में अंकित किया है। आज़ादी  के कई वर्षों पहले तमिलनाडु के राष्‍ट्र कवि सुब्रह्मण्‍यम भारती ने अपने सपनों को शब्‍दों में पिरोया था। उन्‍होंने लिखा था (एलारूम अमरनिलीइ एडुमनन मुरूयई India अलिगिरी कु अलिकुम India ऊलागिरी कु अलिकुम)

और उन्‍होंने लिखा था-

एलारूम अमर निलियई एडुमनन मुरेयई

इंडिया अलिगिरी कु अलिकुम

इंडिया कुलागिरी कु अलिकुम

यानि कि भारत, उन्‍होंने आज़ादी के बाद क्‍या सपना देखा था? सुब्रह्मण्‍यम भारती ने कहा था- भारत पूरी दुनिया के हर तरह के बंधनों से मुक्ति पाने का रास्‍ता दिखाएगा।

मेरे प्‍यारे देशवासियो, इन महापुरुषों के सपनों को पूरा करने के लिए आज़ादी के सेनानियों की इच्‍छाओं को परिपूर्ण करने के लिए, देश के कोटि-कोटि जनों की आशा-आकांक्षाओं को पूर्ण करने के लिए आज़ादी के बाद पूज्‍य बाबा साहेब अम्‍बेडकर जी के नेतृत्‍व में भारत ने एक समावेशी संविधान का निर्माण किया। ये हमारा समावेशी संविधान एक नए भारत के निर्माण का संकल्‍प ले करके आया है। हमारे लिए कुछ ज़िम्‍मेवारियां ले करके आया है। हमारे लिए सीमा रेखाएं तय करके आया है। हमारे सपनों को साकार करने के लिए समाज के हर वर्ग को हर तबके को, भारत के हर भू-भाग को समान रूप से अवसर मिले आगे ले जाने के लिए; उसके लिए हमारा संविधान हमें मार्गदर्शन करता रहा है।

मेरे प्‍यारे भाइयों-बहनों, हमारा संविधान हमें कहता है, भारत के तिरंगे झंडे से हमें प्रेरणा मिलती है- गरीबों को न्‍याय मिले, सभी को, जन-जन को आगे बढ़ने का अवसर‍ मिले, हमारा निम्‍न-मध्‍यम वर्ग, मध्‍यम वर्ग, उच्‍च-मध्‍यम वर्ग, उनको आगे बढ़ने में कोई रुकावटें न आएं, सरकार की अड़चनें न आएं। समाज व्‍यवस्‍था उनके सपनों को दबोच न ले, उनको अधिकतम अवसर मिले, वो जितना फलना-फूलना चाहें, खिलना चाहें, हम एक वातावरण बनाएं।

हमारे बुज़ुर्ग हों, हमारे दिव्‍यांग हों, हमारी महिलाएं हों, हमारे दलित, पीड़ित, शोषित, हमारे जंगलों में ज़िंदगी गुजारने वाले आदिवासी भाई-बहन हों, हर किसी को उनकी आशा और अपेक्षाओं के अनुसार आगे बढ़ने का अवसर मिले। एक आत्‍मनिर्भर हिन्‍दुस्‍तान हो, एक सामर्थ्‍यवान हिन्‍दुस्‍तान हो, एक विकास की निरंतर गति को बनाए रखने वाला, लगातार नई ऊंचाइयों को पार करने वाला हिन्‍दुस्‍तान हो, दुनिया में हिन्‍दुस्‍तान की साख हो, और इतना ही नहीं, हम चाहते हैं कि दुनिया में हिन्‍दुस्‍तान की दमक भी हो। वैसा हिन्‍दुस्‍तान बनाने के लिए हम चाहते हैं।

मेरे प्‍यारे देशवासियो, मैंने पहले भी Team India की कल्‍पना आपके सामने रखी है। जब सवा सौ करोड़ देशवासियों की भागीदारी होती है, जन-जन देश को आगे बढ़ाने के लिए हमारे साथ जुड़ता है। सवा सौ करोड़ सपने, सवा सौ करोड़ संकल्‍प, सवा सौ करोड़ पुरुषार्थ, जब निर्धारित लक्ष्‍य की प्राप्ति के लिए सही दिशा में चल पड़ते हैं तो क्‍या कुछ नहीं हो सकता?

मेरे प्‍यारे भाइयो-बहनों, मैं आज बड़ी नम्रता के साथ, बड़े आदर के साथ ये ज़रूर कहना चाहूंगा कि 2014 में इस देश के सवा सौ करोड़ नागरिकों ने सरकार चुनी थी तो वे सिर्फ सरकार बना करके, रुके नहीं थे। वे देश बनाने के लिए जुटे भी हैं, जुटे भी थे और जुटे रहेंगे भी। मैं समझता हूं यही तो हमारे देश की ताकत है। सवा सौ करोड़ देशवासी, हिन्‍दुस्‍तान के छह लाख से अधिक गांवआज श्री अरविंद  की जन्‍म जयंती है। श्री अरविंद ने बहुत सटीक बात कही थी। राष्‍ट्र क्‍या है, हमारी मातृभूमि क्‍या है, ये कोई जमीन का टुकड़ा नहीं है, न ही ये सिर्फ संबोधन है, न ही ये कोई कोरी कल्‍पना है राष्‍ट्र एक विशाल शक्ति है जो असंख्‍य छोटी-छोटी इकाइयों को संगठित ऊर्जा का मूर्त रूप देती है। श्री अरविंद की ये कल्‍पना ही आज देश के हर नागरिक को, देश को आगे ले जाने में जोड़ रही है। लेकिन हम आगे जा रहे है वो पता तब तक नहीं चलता है जब तक हम कहां से चले थे, उस पर अगर नजर न डाले, कहां से हमने यात्रा का आरंभ किया था, अगर उसकी ओर नहीं देखेंगेतो कहां गए हैं, कितना गए हैं, इसका शायद अंदाज़ नहीं आएगा। और इसलिए 2013 में हमारा देश जिस रफ़्तार से चल रहा था, जीवन के हर क्षेत्र में 2013 की रफ़्तार थी, उस 2013 की रफ़्तार को अगर हम आधार मान कर सोचें और पिछले 4 साल में जो काम हुए हैं, उन कामों का अगर लेखा-जोखा लें, तो आपको अचरज होगा कि देश की रफ़्तार क्‍या है, गति क्‍या है, प्रगति कैसे आगे बढ़ रही है।शौचालय ही ले लें, अगर शौचालय बनाने में 2013 की जो रफ़्तार थी,  उसी रफ़्तार से चलते तो शायद कितने दशक बीत जाते, शौचालय शत-प्रतिशत पूरा करने में।

अगर हम गांव में बिजली पहुंचाने की बात को कहे, अगर 2013 के आधार पर सोचें तो गांव में बिजली पहुंचाने के लिए शायद एक-दो दशक और लग जाते। अगर हम 2013 की रफ़्तार से देखें तो एलपीजी गैस कनेक्‍शन गरीब को, गरीब मां को धुंआ-मुक्‍त बनाने वाला चूल्‍हा, अगर 2013 की रफ़्तार से चले होते तो उस काम को पूरा करने में शायद 100 साल भी कम पड़ जाते, अगर 2013 की रफ़्तार से चले होते तो। अगर हम 13 की रफ़्तार से optical fibre network करते रहते, optical fibre  लगाने का काम करते तो शायद पीढि़यां निकल जाती, उस गति से optical fibre हिन्‍दुस्तान के गांवों में पहुंचाने के लिए। ये रफ़्तार, ये गति, ये प्र‍गति, ये लक्ष्‍य इस प्राप्ति के लिए हम आगे बढ़ेगें।

     भाइयों-बहनों, देश की अपेक्षाएं बहुत हैं, देश की आवश्‍यकताएं बहुत हैं और उसको पूरा करना, सरकार हो, समाज हो, केंद्र सरकार हो, राज्‍य सरकार हों, सबको मिलजुल कर प्रयास करना ये निरंतर आवश्‍यक होता है और उसी का परिणाम है, आज देश में कैसा बदलाव आया है। देश वही है, धरती वही है, हवाएं वही हैं, आसमान वही है, समन्दर वही है, सरकारी दफ्तर वही हैं, फाइलें वही हैं, निर्णय प्रक्रियाएं करने वाले लोग भी वही हैं।लेकिन चार साल में देश बदलाव महसूस कर रहा है। देश एक नई चेतना, नयाउमंग, नए संकप, नई सध, नया पुषाथ, उसको आगे बढ़ा रहा है और तभीतो आज देश दोगुना Highway बना रहा है। देश चार गुना गांवमनए घरबना रहा है। देश आज Record अनाज का उपादनकर रहा है, तो देश आज Record Mobile phone का Manufacturing भी कर रहा है। देश आज Recordट्रैक्टर की खरीद हो रही है। गांव का किसान ट्रैक्टर, Recordट्रैक्टरकी खरीदीहो रही है, तो दूसरी तरफ देश में आज आज़ादी के बाद सबसे ज्यादा हवाईजहाज खरीदनेका भी काम हो रहा है। देश आज स्कूलों में शौचालय बनाने परभी काम कर रहा है, तो देश आज नए IIM, नए IIT, नए AIIMS इसकी स्थापनाकर रहा है। देश आज छोटे-छोटे स्थानों पर नए Skill Development केMission को आगे बढ़ाकर के नए-नए Centre खोल रहा है तो हमारे tier 2, tier 3 cities में Start-up की एक बाढ़ आई हुई है, बहार आई हुई है।

भाइयों-बहनों, आज गांव-गांव तक Digital India को लेकर आगे बढ़ रहे हैं, तोएक संवेदनशील सरकार एक तरफ Digital हिन्दुस्तानबने, इसके लिए काम कररही है, दूसरी तरफ मेरे जो दिव्यांगभाई-बहनें हैं, उनके लिये Common Sign, उसकी  Dictionary बनाने का काम भी उतने हीलगन  के साथ आज हमारा देशकर रहा है।हमारे देश का किसानइन आधुनकता, वैज्ञानिकता की ओर जाने के लिये micro irrigation, drip irrigation , Sprinkle उस पर काम कर रहा है, तो दूसरतरफ 99 पुरानी बंद पड़ी संचाईके बड़े-बड़े project भी चला रहा है। हमारे देशकी सेना कही पर भी प्राकृतिकआपदा हो, पहुंच जाती है। संकट से घिरेमानवकी रक्षा के लियेहमारी सेना करूणा, माया, ममता के साथ पहुंच जाती है, लेकनवहसेना जब संकपलेकर के चल पड़ती है, तो surgical strike करकेदुश्मनके दांत खट़टेकरके आ जाती है। ये हमारा देश के विकासका canvas कितनाबड़ा है, एक छोर देखिये, दूसरा छोर देखिये।देश पूरे बड़े canvas परआज नए उमंग और नए उत्साहके साथ आगे बढ़ रहा है।

मैंगुजरात से आया हूं। गुजरात मेंएक कहावत है। ‘निशानचूक माफ लेकिननहीं माफ नीचू निशान’। यानि  Aim बड़े होने चाहिए, सपने बड़े होने चाहिए।उसकेलियेमेहनत करनी पड़ती है, जवाब देना पड़ता है, लेकनअगर लक्ष्यबड़े नहींहोगें, लक्ष्यदूर के नहीं होगें, तो फिरफैसले भी नहीं होते हैं।विकासकीयात्रा भी अटक जाती है। और इसलियेमेरे प्यारेभाइयों-बहनों, हमारे लियेआवश्यकहै किहम बड़े लक्ष्यलेकर के संकल्पके साथ आगे बढ़ने कीदिशामेंप्रयासकरे। जब लक्ष्यढुलमुल होते हैं, हौसले बुलंद नहीं होते हैं, तो समाज जीवनके जरूरी फैसले भी सालों तक अटके पड़े रहते हैं। MSP देख लीजिये,इस देश केअर्थशास्‍त्रीमांग कर रहे थे, किसानसंगठन मांग कर रहे थे, किसानमांग कररहा था, राजनीतिकदल मांग कर रहे थे, किकिसानों को लागत का डेढ़ गुनाएमएसपी मिलनाचाहिए।सालों से चर्चा चल रहीथी , फाइलेचलती थीं, अटकती थीं, लटकती थीं, फटकती थीं, लेकिनहमने फैसला लिया।हिम्मतकेसाथ फैसला लियाकिमेरे देश के किसानों को लागत का डेढ़ गुना MSP दियाजाएगा।

GST, कौन सहमत नहींथा, सब कोई चाहते थे GST, लेकिननिर्णय नहीं हो पातेथे, फैसले लेने में मेरा अपना लाभ, गैर-लाभ, राजनीति, चुनाव यहचीजों कादबाव रहता था। आज मेरे देश के छोटे-छोटे व्यापारियों की मदद से उनकेखुलेपन से नएपन को स्वीकारनेके उनके स्वाभावके कारण आज देश ने GST लागू कर दिया।व्यापारियों में एक नया विश्वास पैदा हुआ मैं देश के व्यापारी आलम को , छोटे -मोटे उद्योगकरने वाले आलम को GST के साथ शुरू में कठिनाइयांआने के बावजूद भी , उसको गले से लगाया, स्वीकारकिया।देशआगे बढ़ रहा है। आज हमारे देश के banking sector को ताकतवर बनाने के लये insolvency का कानून हो, bankruptcy का कानून हो , किसनेरोका था पहले? इसकेलियेताकत लगती है दम लगता है, विश्‍वास लगता है और जनता जनार्दन के प्रति पूर्ण समर्पण लगता है, तब निर्णय होता है। बेनामी संपत्ति का कानून क्‍यों नहीं लगता था। जब हौसले बुलंद होते हैं तो देश के लिए कुछ करने का इरादा होता है, तो बेनामी संपत्ति के कानून भी लागू होते हैं। मेरे देश की सेना के जवान,  तीन-तीन चार-चार दशक से one rank one pension के लिए मांग कर रहे थे। वो discipline में रहने के कारण आंदोलन नहीं करते थे, लेकिन आवाज लगा रहे थे, कोई नहीं सुनता था। किसी को तो निर्णय करना था, आपने हमें उस निर्णय की जिम्‍मेवारी दी। हमने उसको पूरा कर दिया।

मेरे प्‍यारे भाइयों-बहनों, हमकड़े फैसले लेने का सामर्थ्‍य रखते हैं क्‍योंकि देशहित हमारे लिए सर्वोपरि है। दलहित के लिए काम करने वाले लोग हम नहीं हैं और उसी के कारण हम संकल्‍प लेकर चल पड़े हैं।

मेरे प्‍यारे भाइयों और बहनों, हम यह कैसे भूल सकते हैं कि आज वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था के इस कालखण्ड में पूरी दुनिया भारत की हर बात को देख रही है, आशा अपेक्षा से देख रही है। इसलिए भारत की छोटी-छोटी चीज़ों को, बड़ी चीज़ों को भी विश्व बड़ी गहराई के साथ देखता है। आप याद करिए 2014 के पहले दुनिया की गणमान्‍य संस्‍थाएं, दुनिया के गणमान्‍य अर्थशास्‍त्री, दुनिया में जिनकी बात को अधिकृत माना जाता है, ऐसे लोग कभी हमारे देश के लिए क्‍या कहा करते थे। वो भी एक ज़माना था जब दुनिया से आवाज उठती थी, विद्वानों से आवाज़ उठती थी कि हिन्‍दुस्‍तान की economy risk भरी है। उनको risk दिखाई देता था। लेकिन आज वही लोग, वही संस्‍थाएं, वही लोग बड़े विश्‍वास के साथ कह रहे हैं कि reform momentum, fundamentalsको मजबूती दे रहा है। कैसा बदलाव आया है? एक समय था घर में हों, या घर के बाहर दुनिया एक ही कहती थी red tape की बात करती थी, लेकिन आज red carpet की बात हो रही है। Ease of doing business में अब हम सौ तक पहुंच गये। आज पूरा विश्‍व इसको गर्व से ले रहा है। वो भी दिन था जब विश्‍व मान करके बैठा था,  भारत यानि policy paralysis, भारत यानि delayed reform वो बात हम सुनते थे। आज भी अखबार निकाल करके देखेगो तो दिखाई देगा। लेकिन आज दुनिया में एक ही बात आ रही है कि reform, perform, transform एक के बाद एक नीति विषयक समयबद्ध निर्णयों का सिलसिला चला रहा है। वो भी एक वक्‍त था, जब विश्‍व भारत को fragile five में गिनता था। दुनिया चितिंत थी कि दुनिया को डुबोने में भारत भी अपनी भूमिका अदा कर रहा है। Fragile five में हमारी गिनती हो रही थी। लेकिन आज दुनिया कह रही है कि भारत multi trillion dollar के investment का destination बन गया है। वहीं से आवाज बदल गई है।

मेरे प्‍यारे भाइयों और बहनों, दुनिया भारत के साथ जुड़ने की चर्चा करते समय,  हमारे infrastructure की चर्चा करते समय, कभी बिजली जाने से blackout  हो गया, उन दिनों को याद करती थी, कभी bottlenecks की चर्चा करती थी। लेकिन वही दुनिया, वही लोग, वही दुनिया को मार्ग दर्शन करने वाले लोग इन दिनों कह रहे हैं कि सोया हुआ हाथीअब जग चुका है, चल पड़ा है। सोए हुए हाथी ने अपनी दौड़ शुरू कर दी है। दुनिया के अर्थवेत्ता कह रहे हैं, international institutions कह रहे हैं कि आने वाले तीन दशक तक, यानि 30 साल तक, विश्‍व की अर्थव्‍यवस्‍था की ताकत को भारत गति देने वाला है। भारत विश्‍व के विकास का एक नया स्रोत बनने वाला है। ऐसा विश्‍वास आज भारत के लिए पैदा हुआ है।

 

आज अंतर्राष्‍ट्रीय मंच पर भारत की साख बढ़ी है, नीति निर्धारित करने वाले छोटे-मोटे जिन-जिन संगठनों में आज हिन्‍दुस्‍तान को जगह मिली है, वहां हिन्‍दुस्‍तान की बात को सुना जा रहा है। हिन्‍दुस्‍तान उसमें दिशा देने में, नेतृत्‍व करने में अपनी भूमिका अदा कर रहा है।दुनिया के मंचों पर हमने अपनी आवाज़ को बुलंद किया है।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, कई वर्षों से जिन संस्‍थाओं में हमें सदस्‍यता का इंतजार था, आज देश को विश्‍व की अनगिनत संस्‍थाओं में हमें स्‍थान मिला है। आज,  भारत पर्यावरण की चिंता करने वालों के लिए, global warming के लिए परेशानी की चर्चा करने वाले लोगों के लिए, भारत एक आशा की किरण बना है। आजभारत,International solar alliance में पूरे विश्‍व की अगुआई कर रहा है। आज कोई भी हिन्‍दुस्‍तानी, दुनिया में कहीं पर भी पैर रखता है तो, विश्‍व का हर देश उसका स्‍वागत करने के लिए लाला‍यित होता है। उसकी आंखों में एक चेतना आ जाती है हिन्‍दुस्‍तानी को देखकर। भारत के passport की ताकत बढ़ गई है।  इसने हर भारतीय में आत्‍मविश्‍वास से, एक नई ऊर्जा, नई उमंग ले करके आगे बढ़ने का संकल्‍प पैदा किया है।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, विश्‍व में कहीं पर भी अगर मेरा हिन्‍दुस्‍तानी संकट में है, तो आज उसे भरोसा है कि मेरा देश मेरे पीछे खड़ा रहेगा, मेरा देश संकट के समय में मेरे साथ आ जाएगा। और इतिहास गवाह है पिछले दिनों की अनेक घटनाएं जिसके कारण हम आप देख रहे हैं।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, विश्‍व में भी भारत की तरफ देखने का नजरिया जैसे बदला है वैसे ही हिन्‍दुस्‍तान में North-East के बारे में जब कभी North-East की चर्चा होती थी तो क्‍या खबरें आती थी, वो खबरें, जो लगता था कि अच्‍छा हो, ऐसी खबरें न आए। लेकिन आज, मेरे भाइयों-बहनों,North-East एक प्रकार से उन खबरों को ले करके आ रहा है जो देश को भी प्रेरणा दे रही हैं। आज खेल के मैदान में देखिए हमारे North-East की दमक नजर आ रही है।

मेरे प्‍यारे भाइयों-बहनों, आज North-East की खबर आ रही है कि आखिरी गांव में बिजली पहुंच गई और रात भर गांव नाचता रहा। आज North-East से ये खबरें आ रही हैं। आज North-East में highways, railways, airways, waterways और information ways (i-way)उसकी खबरें आ रही है। आज बिजली के transmission line लगाने का बहुत तेजी से North-East में चल रहा है। आज हमारे North-East के नौजवान वहां BPO खोल रहे हैं। आज हमारे शिक्षा संस्‍थान नए बन रहे हैं, आज हमारा North-East organic farming का hub बन रहा है। आज हमारा North-East sports universityकी मेजबानी कर रहा है।

भाइयों-बहनों, एक समय था जब North-East को लगता था कि दिल्‍ली बहुत दूर है। हमने चार साल के भीतर-भीतर दिल्‍ली को North-East के दरवाज़े पर ला करके खड़ा कर दिया है।

भाइयों-बहनों, आज हमारे देश में 65 प्रतिशत जनसंख्‍या 35 साल की उम्र की है।  हम देश के जवानों के लिए गर्व कर रहे हैं। देश के नव युवक नई पीढ़ी का गर्व कर रहे हैं। हमारे देश के युवाओं ने आज अर्थ के सारे मानदंडों को बदल दिया है। प्रगति के सारे मानदंडों में एक नया रंग भर दिया। कभी बड़े शहरों की चर्चा हुई करती थी। आज हमारा देश Tier 2, Tier 3 city की बातें कर रहा है।  कभी गांव के अंदर जा करके आधुनिक खेती में लगे हुए नौजवान की चर्चा कर रहा है। हमारे देश के नौजवान ने nature of job को पूरी तरह बदल दिया है। startup हो, BPO हो, e-commerce हो, mobility का क्षेत्र हो ऐसे नये क्षेत्रों को आज मेरे देश का नौजवान अपने सीने में बांध करके नई ऊंचाईयों पर देश को ले जाने के लिए लगा हुआ है।

मेरे प्‍यारे भाइयों-बहनों, 13 करोड़ MUDRA LOAN, बहुत बड़ी बात होती है, 13 करोड़ और उसमें भी 4 करोड़ वो लोग है, वो नौजवान हैं,जिन्‍होंने ज़िंदगी में पहली बार कहीं से लोन लिया है, और अपने पैरों पर खड़ें होकर के स्‍वरोजगार पर आगे बढ़ रहे हैं। ये अपने आप में बदले हुए वातावरण का एक जीता जागता उदाहरण है। आज हिन्‍दुस्‍तान के गांवों में, डिजिटल इंडिया के सपने को आगे ले जाने के लिए, हिन्‍दुस्‍तान के आधे से ज्‍यादा तीन लाख गावों में COMMON SERVICE CENTRE मेरे देश के युवा बेटे और बेटियां चला रहे हैं। वे हर गांव को, हर नागरिक को, पलक झपकते ही विश्‍व के साथ जोड़ने के लिए Information Technology का भरपूर उपयोग कर रहे हैं।

मेरे भाइयो-बहनो, आज मेरे देश में Infrastructure ने नया रूप ले लिया है। रेल की गति हो, रोड की गति हो, i-wayहो, highway हो, नए airport हों, एक प्रकार से हमारा देश बहुत तेज़ गति से आगे बढ़ रहा है। 

 

मेरे भाइयो-बहनों, हमारे देश के वैज्ञानिकों ने भी देश के नाम को रोशन करने में कभी कोई कमी नहीं रखी। विश्‍व के संदर्भ मेंहो और भारत की आवश्‍यकता के संदर्भ में, कौन हिन्‍दुस्‍तानी गर्व नहीं करेगा जब देश के वैज्ञानिकों ने एक साथ 100 से अधिक sattelite आसमान में छोड़ करके दुनिया को चकित कर दिया था। ये सामर्थ्‍य हमारे वैज्ञानिकों का है। हमारे वैज्ञानिकों का पुरुषार्थ था मंगलयान की सफलता पहले ही प्रयास में। मंगलयान ने मंगल की कक्षा में प्रवेश किया, वहां तक पहुंचे, ये अपने-आप हमारे वैज्ञानिकों की सिद्धि थी। आने वाले कुछ ही दिनों में हम अपने वैज्ञानिकों के आधार, कल्‍पना और सोच के बल पर ‘नाविक’ को हम लॉन्‍च करने जा रहे हैं। देश के मछुआरों को, देश के सामान्‍य नागरिकों को नाविक के द्वारा दिशा दर्शन का बहुत बड़ा काम, आने वाले कुछ ही दिनों में हम लगाएंगे।

मेरे प्‍यारे देशवासियों आज इस लाल किले की प्राचीर से, मैं देशवासियों को एक खुशखबरी सुनाना चाहता हूं। हमारा देश अंतरिक्ष की दुनिया में प्रगति करता रहा है। लेकिन हमने सपना देखा है, हमारे वैज्ञानिकों ने सपना देखा है।हमारे देश ने संकल्‍प किया है कि 2022, जब आज़ादी के 75 साल होंगे तब या हो सके तो उससे पहले, आज़ादी के 75 साल मनाएंगे तब, मां भारत की कोई संतान चाहे बेटा हो या बेटी, कोई भी हो सकता है। वे अं‍तरिक्ष में जाएंगे। हाथ में तिरंगा झंडा लेकर के जाएंगे। आजादी के 75 साल के पहले इस सपने को पूरा करना है। मंगलयान से लेकर के भारत के वैज्ञानिकों ने जो अपनी ताकत का परिचय करवाया है। अब हम मानव सहित गगनयान लेकर के चलेगें और ये गगनयान जब अंतरिक्ष में जाएगा, तो कोई हिन्‍दुस्‍तानी लेकर जाएगा। यह काम हिन्‍दुस्‍तान के वैज्ञानिकों के द्वारा होगा। हिन्‍दुस्‍तान के पुरुषार्थ के द्वारा पूरा होगा। तब हम  विश्‍व में चौथा देश बन जाएंगे जो मानव को अंतरिक्ष में पहुंचाने वाला होगा।

भाइयों-बहनों, मैं देश के वैज्ञानिकों को, देश के technicians को मैं हृदय से बहुत-बहुत बधाई देता हूं। इस महान काम के लिए। भाईयों-बहनों हमारा देश आज अन्‍न के भंडार से भरा हुआ है। विशाल अन्न उत्पादन के लिए, मैं देश के किसानों को, खेतिहर मजदूरों को, कृषि के क्षेत्र में काम करने वाले वैज्ञानिकों को, देश में कृषि क्रांति को सफलतापूर्वक आगे बढ़ाने के लिए हृदय से बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

 

 

लेकिन भाइयों बहनो, अब वक्‍त बदल चुका है, हमारे किसान को भी, हमारे कृषि बाजार को भी वैश्विक चुनौतियों का सामना करना होता है, वैश्विक बाज़ार का सामना करना होता है। जनसंख्‍या वृद्धि होती हो, जमीन कम होती जाती हो,  तब हमारी कृषि को आधुनिक बनाना, वैज्ञानिक बनाना,technology के आधार पर आगे ले जाना; ये समय की मांग है। और इसलिए आज हमारा पूरा ध्‍यान कृषि क्षेत्र में आधुनिकता लाने के लिए, बदलाव लाने के लिए चल रहा है।

हमने सपना देखा हैकिसानों की आय दोगुनी करने का। आजादी के 75 साल हों, किसानों की आय दोगुनी करने का सपना देखा है। जिनको इस पर आशंकाएं होती हैं- जो स्‍वाभाविक है। लेकिन हम लक्ष्‍य ले करके चले हैं। और हम मक्‍खन पर लकीर करने की आदत वाले नहीं हैं, हम पत्‍थर पर लकीर करने की स्‍वभाव वाले लोग हैं। मक्‍खन पर लकीर तो कोई भी कर लेता है। अरे पत्‍थर पर लकीर करने के लिए पसीना बहाना पड़ता है, योजना बनानी पड़ती है, जी-जान से जुटना पड़ता है। इसलिए जब आज़ादी के 75 साल होंगे, तब तक देश के किसानों को साथ लेकर कृषि में आधुनिकता ला करके, कृषि के फलक को चौड़ा कर-करके हम आज चलना चाहते हैं। बीज से ले करके बाजार तक हम value addition करना चाहते हैं। हम आधुनिकीकरण करना चाहते हैं और कई नई फसलें भी अब  रिकार्ड उत्‍पादन करने से आगे बढ़ रही हैं। अपने-आप में पहली बार हम देश में agriculture export policy की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं ताकि हम हमारे देश का किसान भी विश्‍व बाज़ार के अंदर ताकत के साथ खड़ा रहे।

आज नई कृषि क्रांति, organic farming, blue revolution, sweet revolution, solar farming; ये नए दायरे खुल चुके हैं। उसको ले करके हम आगे बढ़ना चाहते हैं।

हमें खुशी की बात है कि आज हमारा देश दुनिया में मछली उत्‍पादन में second highest बन गया है और देखते ही देखते वो नंबर एक पर भी पहुंचने वाला है। आज honey, यानि शहद का export दोगुना हो गया है। आज गन्‍ना किसानों के लिए खुशी होगी कि हमारे ethanol का उत्‍पादन तीन गुना हो गया है। यानि एक प्रकार से ग्रामीण अर्थव्‍यवस्‍था में जितना कृषि का महत्‍व है, उतना ही और कारोबारों का है। और इसलिए हम women self-help group द्वारा अरबों-खरबों रूपयों के माध्‍यम से, गांव के जो संसाधन हैं, गांव का जो सामर्थ्‍य है, उसको भी हम आगे बढ़ाना चाहते हैं और उस दिशा में हम प्रयास कर रहे हैं।

खादी- पूज्‍य बापू का नाम उसके साथ जुड़ा हुआ है। आजादी से अब तक जितनी खादी बेचने की परम्‍परा थी, मैं आज नम्रता से कहना चाहता हूं, खादी की बिक्री पहले से double हो गई है। गरीब लोगों के हाथ में रोजी-रोटी पहुंची है।

मेरे भाइयो-बहनों, मेरे देश का किसान अब solar farming की ओर बल देने लगा है। खेती के सिवाय कोई अन्‍य समय, वो solar farming से भी बिजली बेच करके भी कमाई कर सकता है। हमारा हथकरघा चलाने वाला व्‍यक्ति, हमारे हैंडलूम की दुनिया के लोग; ये भी रोजी-रोटी कमाने लगे हैं।

मेरे प्‍यारे भाइयो-बहनों, हमारे देश में आर्थिक विकास हो, आर्थिक समृद्धि हो, लेकिन उन सबके बावजूद भी मानव की गरिमा, ये supreme होती है। मानव की गरिमा के बिना देश संतुलित रूप से न जी सकता है, न चल सकता है, न बढ़ सकता है। इसलिए व्‍यक्ति की गरिमा, व्‍यक्ति का सम्‍मान, हमें उन योजनाओं को ले करके आगे बढ़ना चाहित ताकि वो सम्‍मान से जिंदगी जी सकें, गर्व से जिंदगी जी सकें। नीतियां ऐसी हों, रीति ऐसी हो, नीयत ऐसी होकि जिसके कारण सामान्‍य मानवी, गरीब से गरीब मानवी भी हर किसी को अपने-आप को बराबरी के साथ जीने का अवसर देखता हो।

और इसीलिए उज्ज्वला योजना में, हमने गरीब के घर में गैस पहुंचाने का काम किया है। सौभाग्य योजना में, गरीब के घर में बिजली पहुंचाने का काम किया है। श्रमेव जयते को बल देते हुए हम आगे बढ़ने की दिशा में काम कर रहे हैं।

कल ही हमने महामहिम राष्‍ट्रपति जी का उद्धबोधन सुना। उन्‍होंने बड़े विस्‍तार से ग्राम स्‍वराज अभियान का वर्णन किया। जब भी सरकार की बातें आती हैं, तो कहते हैं नीतियां तो बनती है लेकिन last miledeliveryनहीं हुई। कल राष्ट्रपति जी ने बढ़े अच्‍छे तरीके से वर्णन किया कि किस प्रकार से आकांक्षी जिलों के 65 हजार गांवों में दिल्‍ली से चली हुई योजना को गरीब के घर तक, पिछड़े गांव तक कैसे पहुंचाया गया है, इसका काम किया है।

प्‍यारे देशवासियों, 2014 में इसी लालकिले की प्राचीर से जब मैंने स्‍वच्‍छता की बात की थी, तो कुछ लोगों ने इसका मजाक उड़ाया था, मखौल उड़ाया था। कुछ लोगों ने ये भी कहा थाअरे, सरकार के पास बहुत सारे काम हैं ये स्‍वच्‍छता जैसे में अपनी ऊर्जा क्‍यों खपा रहे हैं। लेकिन भाइयों-बहनों, पिछले दिनों WHO की रिपोर्ट आई है और WHO कह रहा है कि भारत में स्‍वच्‍छता अभियान के कारण 3 लाख बच्‍चे मरने से बच गए हैं। कौन हिन्‍दुस्‍तानी होगा जिसको स्‍वच्‍छता में भागीदारी बन करके इन 3 लाख बच्‍चों की ज़िन्‍दगी बचाने का पुण्‍य पाने का अवसर न मिला हो। गरीब के 3 लाख बच्‍चों की जिन्‍दगी बचाना कितना बड़ा मानवता का काम है। दुनिया भर की संस्‍थाएं इसकोrecogniseकर रही हैं।

भाइयों-बहनों, अगला वर्षमहात्‍मा गांधी की 150वीं जयंती का वर्ष है। पूज्‍य बापू ने, अपने जीवन में, आज़ादी से भी ज़्यादा महत्‍व स्‍वच्‍छता को दिया था। वो कहते थे कि आजादी मिली सत्‍याग्रहियों से, स्‍वच्‍छता मिलेंगी स्‍वच्‍छाग्रहियों से। गांधी जी ने सत्याग्रही तैयार किए थे और गांधी जी की प्रेरणा ने स्‍वच्‍छाग्रही तैयार किए हैं। और आने वाले, 150वीं जयंती जब मनाएंगे, तब ये देश पूज्‍य बापू को स्‍वच्‍छ भारत के रूप में, ये हमारे कोटि-कोटि स्‍वच्‍छाग्रही, पूज्‍य बापू को कार्यान्जलि समर्पित करेंगे। और एक प्रकार से जिन सपनों को ले करके हम चले हैं, उन सपनों को पूरा करेंगे।

मेरे भाइयों-बहनों, ये सही है, कि स्‍वच्‍छता ने 3लाख लोगों की ज़िंदगी बचाई है। लेकिन कितना ही मध्‍यम वर्ग का सुखी परिवार क्‍यों न हो, अच्‍छी-खासी आय रखने वाला, व्‍यक्ति क्‍यों न हो, गरीब क्‍यों न हो, एक बार घर में बीमारी आ जाए तो व्‍यक्ति नहीं पूरा परिवार बीमार हो जाता है। कभी पीढ़ी दर पीढ़ी बीमारी के चक्‍कर में फंस जाती है।

देश के गरीब से गरीब व्‍यक्ति को, सामान्‍य जन को, आरोग्‍य की सुविधा मिले,  इसलिए गंभीर बीमारियों के लिए और बड़े अस्‍पतालों में सामान्‍य मानवी को भी आरोग्‍य की सुविधा मिले, मुफ्त में मिले और इसलिए भारत सरकार ने प्रधानमंत्री जनआरोग्‍य अभियान प्रारंभ करने का तय किया है। ये प्रधानमंत्री जनअरोग्‍य अभियान के तहत आयुष्मान भारत योजना के तहत, इस देश के 10 करोड़ परिवार, ये प्रारंभिक है, आने वाले दिनों में निम्‍न मध्‍यम वर्ग, मध्‍यम वर्ग, उच्‍च मध्‍यम वर्ग को भी इसका लाभ मिलने वाला है। इसलिए 10 करोड़ परिवारों को, यानी करीब-करीब 50 करोड़ नागरिक, हर परिवार को 5 लाख रुपया सालाना,health assurance देने की योजना है। ये हम इस देश को देने वाले हैं। ये technology drivenव्‍यवस्‍था है, transparency पर बल हो, किसीसामान्‍य व्‍यक्ति को ये अवसर पाने में दिक्‍कत न हो, रुकावट न हो इसमें technology intervention बहुत महत्‍वपूर्ण है। इसके लिए technology के टूल बने हैं।

15 अगस्‍त से आने वाले 4-5-6 सप्‍ताह में देश के अलग-अलग कोने में इस technology का testing शुरू हो रहा है और fullproof बनाने की दिशा में यह प्रयास चल रहा है और फिर इस योजना को आगे बढ़ाने के लिए 25 सितंबर पंडित दीन दयाल उपाध्‍यायकी जन्म जयंती पर25 सितंबर, पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्मजयंती पर पूरे देश में ये प्रधानमंत्री जनआरोग्य अभियान लॉन्च कर दिया जाएगा और उसका परिणाम ये होने वाला है कि देश के गरीब व्यक्ति को अब बीमारी के संकट से जूझना नहीं पड़ेगा। उसको साहूकार से पैसा ब्याज पर नहीं लेना पड़ेगा। उसका परिवार तबाह नहीं हो जाएगा। और देश में भी मध्यमवर्गीय परिवारों के लिये, नौजवानों के लिये आरोग्य के क्षेत्र में नए अवसर खुलेंगे। tier 2 tier 3 cities में नए अस्पताल बनेंगे। बहुत बड़ी संख्‍या में medical staff लगेगा। बहुत बड़े रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे।

भाइयों-बहनों, कोई ग़रीब, ग़रीबी में जीना नहीं चाहता है। कोई ग़रीब, ग़रीबी में मरना नहीं चाहता है। कोई ग़रीब अपने बच्चों को विरासत में ग़रीबी देकर के जाना नहीं चाहता है। वो छटपटा रहा होता है कि ज़िन्दगी भर ग़रीबी से बाहर निकलने के लिये और इस संकट से बाहर आने के लिये ग़रीब को सशक्त बनाना यही उपचार है, यही उपाय है।

हमने पिछले चार साल में ग़रीब को सशक्त बनाने की दिशा में बल दिया है। हमारा प्रयास रहा है ग़रीब सशक्त हो और अभी-अभी एक अंतरराष्ट्रीय संस्था ने एक बहुत अच्छी रिपोर्ट निकाली है। उन्होंने कहा है कि पिछले दो वर्ष में भारत में पांच करोड़ ग़रीब, ग़रीबी की रेखा से बाहर आ गए हैं।

भाइयों-बहनों, जब ग़रीब के सशक्तिकरण का काम करते हैं, और जब मैं आयुषमान भारत की बात करता था,  दस करोड़ परिवार यानी 50 करोड़ जनसंख्या। बहुत कम लोगों को अंदाज होगा कितनी बड़ी योजना है। अगर मैं अमेरिका, कैनेडा और मैक्सिको की जनसंख्या मिला लूं, तो करीब करीब इतने लाभार्थी आयुषमान भारत योजना में हैं। अगर, मैं पूरे यूरोप की जनसंख्या गिन लूं, करीब-करीब उतनी ही जनसंख्या भारत में इस आयुषमान  भारत के लाभार्थी बनने वाले हैं।

भाइयों-बहनों, गरीब को सशक्त बनाने के लिये हमनें अनेक योजनाएं बनाई है। योजनाएं तो बनती हैं। लेकिन बिचौलिये, कटकी कम्पनी उसमें से मलाई खा लेते हैं। ग़रीब को हक मिलता नहीं है। खज़ाने से पैसा जाता है, योजनाएं कागज पर दिखती हैं,  देश लुटता चला जाता है। सरकारें आंखें मूंद कर के बैठ नहीं सकती और मैं तो कतई नहीं बैठ सकता।

और इसलिये भाइयों-बहनों, हमारी व्यवस्था में आई विकृतियों को ख़त्म करके देश के सामान्य मानवी के मन में विश्वास पैदा करना बहुत आवश्यक है। और ये दायित्व राज्य हो, केन्द्र हो, स्थानीय स्वराज की संस्थाएं हो, हम सबको मिलकर के निभाना होगा। और इसको आगे बढ़ाना होगा। आप जानकर हैरान होंगे,  जब से हम इस सफाई अभियान में लगे हैं, leakages बंद करने में लगे हैं,  कोई उज्जवला योजना का लाभार्थी होता था, गैस कनेक्शन का लाभार्थी, duplicate gas connection वाला, कोई ration card का लाभार्थी होता था,  कोई scholarship का लाभार्थी होता था,  कोई pension का लाभार्थी होता था। लाभ मिलते थे लेकिन 6 करोड़ लोग ऐसे थे जो कभी पैदा ही नहीं हुए, जिनका कहीं अस्तित्व ही नहीं है, लेकिन उनके नाम से पैसे जा रहे थे। इन 6 करोड़ नामों को निकालना कितना बड़ा कठिन काम होगा, कितने लोगों को परेशानी हुई होगी। जो इंसान पैदा न हुआ, जो इंसान धरती पर नहीं है। ऐसे ही फर्जी नाम लिख करके रुपये मार लिये जाते थे।

इस सरकार ने इसको रोका है। भ्रष्‍टाचार, कालेधन, ये सारे कारोबार रोकने की दिशा में हमने कदम उठाया है।

भाइयों-बहनों, और इसका परिणाम क्‍या आया है? करीब 90 हज़ार करोड़ रुपया,  यह छोटी रकम नहीं है। 90 हजार करोड़ रुपया जो गलत लोगों के हाथ में गलत तरीके से, गलत कारनामों से चले जाते थे वो आज देश की तिजोरी में बचे हैं,  जो देश के सामान्‍य मानव की भलाई के लिए काम आ रहे हैं।

भाइयों-बहनों, यह होता क्‍यों हैं? यह देश गरीब की गरिमा के लिए काम करने वाला देश है। हमारा देश का गरीब सम्‍मान से जिये, इसके लिए काम करना  है। लेकिन ये बिचौलिये क्‍या करते थे?आपको पता होगा कि बाजार में गेहूं की कीमत 24-25 रुपये है, जबकि राशन कार्ड पर सरकार वो गेहूं 24-25 रुपये में खरीद करके सिर्फ दो रुपये में गरीब तक पहुंचाती है। चावल की बाजार में कीमत 30-32 रुपया है, लेकिन गरीब को चावल मिलेइसलिए सरकार 30-32 रुपये में खरीद करके 3 रुपये में राशन कार्ड वाले गरीब तक पहुंचाती है। यानि कि एक किलो गेहूं कोई चोरी कर ले गलत फर्जी नाम से तो उसको तो 20-25 रुपये ऐसे ही मिल जाते हैं। एक किलो चावल मार लें तो उसको 30-35 रुपये ऐसे ही मिल जाते हैं और इसी कारण यह फर्जी नामों से कारोबार चलता था। और जब गरीब राशनकार्ड दुकान पर जाता था, वो कहता था राशन खत्‍म हो गया, राशन वहां से निकल करके दूसरी दुकान पर चला जाता था और वो 2 रुपये से मिलने वाला राशन मेरे गरीब को 20 रुपया, 25 रुपये से खरीदना पड़ता था। उसका हक छीन लिया जाता था भाईयों-बहनों। और इसलिए इस फर्जी कारोबार को अब बंद किया है और उसको रोका है।

भाइयों-बहनों, हमारे देश के कोटि-कोटि गरीबों को 2 रुपये में, 3 रुपये में खाना मिलता है। सरकार उसके लिए बहुत बड़ा आर्थिक खर्च कर रही है। लेकिन इसका  credit सरकार को नहीं जाता है। मैं आज विशेष रूप से मेरे देश के ईमानदार करदाताओं से कहना चाहता हूं कि आज जब दोपहर को आप खाना खाते हो, पलभर के लिए परिवार के साथ बैठ करके मेरी बात को याद करना। मैं आज ईमानदार करदाताओं के दिल को छूना चाहता हूं। उनके मन-मंदिर में नमन करने मैं जा रहा हूं। मेरे देशवासियों, जो ईमानदार करदाता है, जो Tax देता है, मैं आपको विश्‍वास दिलाता हूं कि जो ईमानदार व्‍यक्ति कर देता है उन पैसों से ये योजनाएं चलती हैं। इन योजनाओं का पुण्‍य अगर किसी को मिलता है तो सरकार को नहीं, मेरे ईमानदार करदाताओं को मिलता है, Tax payer को मिलता है। और इसलिए जब आप खाना खाने के लिए बैठते हैं तो आप विश्‍वास कीजिए आपके कर देने की ईमानदार प्रक्रिया का परिणाम है कि जब आप खाना खा रहे हैं, उसी समय तीन गरीब परिवार भी खाना खा रहे हैं, जिसका पुण्‍य ईमानदार करदाता को मिलता है और गरीब का पेट भरता है।

दोस्‍तों, देश में कर न भरने की हवा बनाई जा रही है, लेकिन जब करदाता को पता चलता है कि उसके कर से, उसके Tax से भले वो अपने घर में बैठा हो, air condition कमरे में बैठा है। लेकिन उसके Tax से उसी समय तीन गरीब परिवार अपना पेट भर रहे हैं। इससे बड़ा जीवन का संतोष क्‍या हो सकता है। उससे ज्‍यादा मन को पुण्‍य क्‍या हो सकता है।

भाईयों-बहनों, आज देश ईमानदारी का उत्‍सव ले करके आगे बढ़ रहा है और ईमानदारी का उत्‍सव ले करके चल रहा है। देश में 2013 तक, यानी पिछले 70 साल की हमारी गतिविधि का परिणाम था, कि देश में directTax देने वाले 4 करोड़ लोग थे। लेकिन भाइयों-बहनों, आज यह संख्‍या करीब-करीब दो गुना हो करके पौने सात करोड़ हो गई है।

और इसलिये भाइयों-बहनों, हमारी व्यवस्था में आई विकृतियों को ख़त्म करके देश के सामान्य मानवी के मन में विश्वास पैदा करना बहुत आवश्यक है। और ये दायित्व राज्य हो, केन्द्र हो, स्थानीय स्वराज की संस्थाएं हो, हम सबको मिलकर के निभाना होगा। और इसको आगे बढ़ाना होगा। आप जानकर के हैरान होंगे,  जब से हम इस सफाई अभियान में लगे हैं, leakages बंद करने में लगे हैं,  कोई उज्जवला योजना का लाभार्थी होता था, गैस कनेक्शन का लाभार्थी, duplicate gas connection वाला, कोई ration card का लाभार्थी होता था,  कोई scholarship का लाभार्थी होता था,  कोई pension का लाभार्थी होता था,  लाभ मिलते थे लेकिन 6 करोड़ लोग ऐसे थे जो कभी पैदा ही नहीं हुए, जिनका कहीं अस्तित्व ही नहीं है, लेकिन उनके नाम से पैसे जा रहे थे। इन 6 करोड़ नामों को निकालना कितना बड़ा कठिन काम होगा, कितने लोगों को परेशानी हुई होगी। जो इंसान पैदा न हुआ, जो इंसान धरती पर नहीं है। ऐसे ही फर्जी नाम लिख करके रुपये मार लिये जाते थे।

कहां तीन, साढ़े तीन, पौने-चार करोड़ और कहां पौने सात करोड़, यह ईमानदारी का जीता जागता उदाहरण है। देश ईमानदारी की ओर चल पड़ा है इसका उदाहरण है। 70 साल में हमारे देश में जितने indirect tax में उद्यमी जुड़े थे वो 70 साल में 70 लाख का आंकड़ा पहुंचा है। 70 साल में 70 लाख लेकिन सिर्फ GST आने के बाद पिछले एक वर्ष में यह 70 लाख का आंकड़ा एक करोड़ 16 लाख पर पहुंच गया।भाइयों-बहनों, मेरे देश का हर व्‍यक्ति आज ईमानदारी के उत्‍सव में आगे आ रहा है। जो भी आगे आ रहे हैं, मैं उनको नमन करता हूं। जो आगे जाना चाहते हैंमैं उनको विश्‍वास दिलाना चाहता हूं। अब देश परेशानियों से मुक्‍त गर्वपूर्ण  करदाता का जीवन बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। मैं करदाताओं को विश्‍वास दिलाना चाहता हूं। आप देश को बनाने में योगदान दे रहे हैं। आपकी परेशानियां हमारी परेशानियां हैं। हम आपके साथ खड़े हैं, क्‍योंकि आपके योगदान से हमें देश को आगे बढ़ाना है और इसलिए भाइयों-बहनों, हम काला धन, भ्रष्‍टाचार को माफ नहीं करेंगे। कितनी ही आफतें क्‍यों न आएं, इस मार्ग को तो मैं छोड़ने वाला नहीं हूं मेरे देशवासियों, क्‍योंकि देश को दीमक की तरह इन्‍हीं बीमारियों ने तबाह करके रखा हुआ है। और इसलिए हमने, आपने देखा होगाअब दिल्‍ली के गलियारों में power broker नज़र नहीं आते हैं। अगर दिल्‍ली में कहीं गूंज सुनाई देती है, तो कुंवर की गूंज सुनाई देती है।

मेरे प्‍यारे भाइयों-बहनों, यह वक्‍त बदल चुका है। हमने देश में कुछ लोग अपने घरों में बैठ करके कहते थे अरे सरकार की वो नीति बदल दूंगा, ढीकना कर दूंगा, फलाना कर दूंगा, उनकी सारी दुकानें बंद हो गई हैं, दरवाजें बंद हो गए हैं।

भाइयों-बहनों, भाई-भतीजावाद को हमने खत्‍म कर दिया है। मेरे-पराये परंपराओं को हमने खत्‍म कर दिया है। रिश्‍वत लेने वालों पर कार्रवाई बड़ी कठोर हो रही है। लगभग तीन लाख संदिग्‍ध कंपनियों पर ताले लग चुके हैं, उनके डायरेक्‍टरों पर पाबंदियां लगा दी गई है भाइयों-बहनों। और आज हमने प्रक्रियाओं को transparent बनाने के लिए online प्रक्रिया चालू की है। हमने IT Technology काउपयोग किया है। और उसका परिणाम है कि आज पर्यावरण - एक समय था कि पर्यावरण की मंजूरी यानि corruption के पहाड़ चढ़ते जाना तब जा करके मिलती थी। भाइयों-बहनों, हमने उसको transparent कर दिया है। ऑनलाइन कर दिया है। कोई भी व्‍यक्ति उसको देख सकता है। और भारत के संसाधनों का सदुपयोग हो, इस पर हम काम कर सकते हैं। भाइयों बहनों आज हमारे लिए गर्व का विषय है कि हमारे देश में आज सुप्रीम कोर्ट में तीन महिला जज बैठी हुई हैं। कोई भी भारत की नारी गर्व कर सकती है कि भारत के सुप्रीम कोर्ट में आज तीन महिला मान्‍य न्‍यायधीश हमारे देश को न्‍याय दे रही हैं। भाइयों-बहनों, मुझे गर्व है कि आजादी के बाद यह पहली कैबिनेट है जिसमें सर्वाधिक महिलाओं को स्‍थान मिला है। भाईयों-बहनों मैं आज इस मंच से मेरी कुछ बेटियां है, मेरी बहादुर बेटियों को एक खुशखबरी देना चाहता हूं। भारतीय सशस्‍त्र सेना में short service commission के माध्‍यम से नियुक्‍त महिला अधिकारियों को पुरूष समकक्ष अधिकारियों की तरह पारदर्शी चयन प्रक्रिया द्वारा स्‍थाई commission की मैं आज घोषणा करता हूं। जो हमारी लाखों बेटियां आज uniform की जिंदगी जी रही है, देश के लिए कुछ करना चाहती हैं। उनके लिए आज मैं यह तोहफा दे रहा हूं, लाल किले की प्राचीर से दे रहा हूं। देश की महिलाएं और शक्तिशाली भारत के निर्माण में कंधे से कंधा मिला करके चल रही हैं। हमारी मां-बहनों का गर्व, उनका योगदान, उनका सामर्थ्‍य आज देश अनुभव कर रहा है।

 

15

भाइयों-बहनों, आए दिन North-East में हिंसक घटनाओं की खबरें आती थीं, अलगाववाद की खबरें आती थीं।बम, बंदूक, पिस्‍तौल की घटनाएं सुनाई देती थीं। लेकिन आज एक armedforces special power act, जो तीन-तीन, चार-चार दशक से लगा हुआ था, आज मुझे खुशी है कि हमारे सुरक्षाबलों के प्रयासों के कारण, राज्‍य सरकारों की सक्रियता के कारण, केन्‍द्र और राज्‍य की विकास की योजनाओं के कारण, जन-साधारण को जोड़ने के प्रयासों का परिणाम है कि आज कई वर्षों के बाद त्रिपुरा और मेघालय पूरी तरह armedforces special power act से मुक्‍त हो गए हैं।

अरुणाचल प्रदेश के भी कई जिले इससे मुक्‍त हो गए हैं। गिने-चुने जिलों में अब ये स्थिति बची है। left wing extremism, माओवाद देश को रक्‍त से रंजित कर रहा है। आए दिन हिंसा की वारदातें करना, भाग जाना, जंगलों में छुप जाना, लेकिन लगातार हमारे सुरक्षाबलों के प्रयासों के कारण, विकास की नई-नई योजनाओं के कारण, जन सामान्‍य को जोड़ने के प्रयासों के कारण जो left wing extremism 126 जिलों में मौत के साये में जीने के लिए मजबूर कर रहा था, आज वो कम हो करके करीब-करीब 90 जिलों तक आ गया है। विकास अब बहुत तेजी से आगे बढ़ रहा है। 

भाइयों-बहनों, जम्‍मू और कश्‍मीरके बारे मेंअटल बिहारी वाजपेयी जी ने हमें रास्‍ता दिखाया है और वही रास्‍ता सही है। उसी रास्‍ते पर हम चलना चाहते हैं। वाजपेयी जी ने कहा था - इंसानियत, जम्हूरियतऔर कश्‍मीरियत, इन तीन मूल मुद्दों को ले करके हम कश्‍मीर का विकास कर सकते हैं -चाहे लद्दाख हो, चाहे जम्‍मू हो या श्रीनगर valley हो, संतुलित विकास हो, समान विकास हो, वहां के सामान्‍य मानवी की आशा-आकांक्षाएं पूर्ण हो, infrastructure को बल मिलेऔर साथ-साथ जन-जन को गले लगा करके चलें, इसी भाव के साथ हम आगे बढ़ना चाहते हैं। हम गोली और गाली के रास्‍ते पर नहीं, गले लगा करके मेरे कश्‍मीर के देशभक्ति से जीने वाले लोगों के साथ आगे बढ़ना चाहते हैं।

भाइयों-बहनों, सिंचाई की परियोजनाएं आगे बढ़ रही हैं। IIT, IIM, AIIMS, का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। डल झील के पुननिर्माण का, पुनर्रोद्धार का काम भी हम चला रहे हैं। सबसे बड़ी बात है, आने वाले दिनों में जम्‍मू-कश्‍मीर के गांव का हर इंसान मुझसे एक साल से मांग कर रहे थे, वहां के पंच मुझसे सैंकड़ों की तादाद में आ करके मिलते थे और वो मांग कर रहे थे कि जम्‍मू-कश्‍मीर में हमें पंचायतों के स्‍थानीय निकायों के चुनाव दीजिए।किसी न किसी कारण से वो रुका हुआ था। मुझे खुशी है कि आने वाले कुछ ही महीनों में जम्‍मू–कश्‍मीर में गांव के लोगों को अपना हक जताने का अवसर मिलेगा। अपना स्‍वयं व्‍यवस्‍था खड़ी करने का अवसर मिलेगा। अब तो भारत सरकार से इतनी बड़ी मात्रा में जो पैसे सीधे गांव के पास जाते हैं तो गांव को आगे बढ़ाने के लिए वहां के चुने हुए पंच के पास ताकत आएगी। इसलिए निकट भविष्‍य में पंचायतों के चुनाव हों, स्‍थानीय नगर-निकायों के चुनाव हों, उस दिशा में हम आगे बढ़ रहे हैं।

भाइयों-बहनों, हमें देश को नई ऊंचाइयों पर ले जाना है। हमारा मंत्र रहा है ‘सबका साथ, सबका विकास’। कोई भेदभाव नहीं, कोई मेरा-तेरा नहीं, कोई अपना-पराया नहीं, कोई भाई-भतीजावाद नहीं, सबका साथ यानि सबका साथ। और इसलिए हम ऐसे लक्ष्‍य तय करके चलते हैं। और मैं आज फिर एक बार इस तिरंगे झंडे के नीचे खड़े रह करके, ला‍लकिले की प्राचीर से कोटि-कोटि देशवासियों को उन संकल्‍पों को दोहराना चाहता हूं, उन संकल्‍पों का उद्घोष करना चाहता हूं, जिसके लिए हम अपने-आपको खपा देने के लिए तैयार हैं।

हर भारतीय के पास अपना घर हो - housing for all. हर घर के पास बिजली कनेक्‍शन हो - Power for all. हर भारतीय को धुंए से मुक्ति मिलेरसोई में, और इसलिए cooking gas for all. हर भारतीय को जरूरत के मुताबिक जल मिलेऔर इसलिए water for all. हर भारतीय को शौचालय मिले और इसलिए sanitation for all, हर भारतीय को कुशलता मिले और इसलिये skill for all, हर भारतीय को अच्छी और सस्ती स्वास्थ्य सेवाएं मिले, इसलिये health for all, हर भारतीय को सुरक्षा मिले,सुरक्षा का बीमा सुरक्षा कवच मिले और इसलिए insurance for all, हर भारतीय को इंटरनेट की सेवा मिलें और इसलिए connectivity for all, इस मंत्र को ले करके हम देश को आगे बढ़ाना चाहते है।

मेरे प्‍यारे भाइयों-बहनों, लोग मेरे लिए भी कई बातें करते है लेकिन जो कुछ भी कहा जाता हो, मैं आज सार्वजनिक रूप से कुछ चीजों को स्वीकार करना चाहता हूँ कि मैं बेसब्र हूँ, क्योंकि कई देश हमसे आगे निकल चुके है, मैं बेसब्र हूँ मेरे देश को इन सारे देशों से भी आगे ले जाने के लिए बेचैन हूँ। मैं बेचैन हूं, मेरे प्‍यारे देशवासियों, मैं बेसब्र भी हूं, मैं बेचैन भी हूं। मैं बेचैन हूं, क्‍योंकि हमारे देश के बच्‍चों के विकास में, कुपोषण एक बहुत बड़ी रुकावट बना हुआ है। एक बहुत बड़ा bottleneck बना हुआ है। मुझे मेरे देश को कुपोषण से मुक्‍त कराना है इसलिए मैं बेचैन हूं। मेरे देशवासियों, मैं व्‍याकुल हूं ताकि गरीब तक, समुचित health cover प्राप्त हो, इसके लिए मैं बेचैन हूं ताकि मेरे देश का सामान्‍य व्‍यक्ति भी बीमारी से लड़ सके, भिड़ सके।

भाइयों-बहनों, मैं व्‍याकुल भी हूं, मैं व्‍यग्र भी हूं। मैं व्‍यग्र हूं ताकि अपने नागरिक को quality of life, ease of living का अवसर प्रदान हो, उसमें भी सुधार आए।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, मैं व्‍याकुल भी हूं, मैं व्‍यग्र हूं, मैं अधीर भी हूं। क्योंकि चौथी औद्योगिक क्रांति है, जो ज्ञान के अधिष्ठान पर चलने वाली चौथी औद्योगिक क्रांति है उस चौथी औद्योगिक क्रांति का नेतृत्‍व आईटी जिसके उंगलियों पर है, मेरा देश उसकी अगुवाई करे उसके लिए मैं अधीर हूं।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, मैं आतुर हूं क्‍योंकि चाहता हूं कि देश अपनी क्षमता और संसाधनों का पूरा लाभ उठाए और विश्‍व में गर्व के साथ हम आगे बढ़े।

मेरे प्‍यारे देशवासियों, जो हम आज हैं, कल उससे भी आगे बढ़ना चाहते है। हमें ठहराव मंज़ूर नहीं है, हमें रुकना मंज़ूर नहीं है, और झुकना तो हमारे स्‍वभाव में नहीं है। ये देश न रुकेगा, न झुकेगा, ये देश न थकेगा, हमें नई ऊंचाइयों पर आगे चलना है, उत्तरोत्तर प्रगति करते चलना है।

भाइयों-बहनों, वेद से वर्तमान तक विश्‍व की चिरपुरातन विरासत के हम धनी हैं। हम पर इस विरासत का आर्शीवाद है। उस विरासत की जो हमारे आत्‍मविश्‍वास की बदौलत है। उसको ले करके हम भविष्‍य में और आगे बढ़ना चाहते है। और मेरे प्‍यारे देशवासियों, हम सिर्फ भविष्‍य देखने तक रहना नहीं चाहते है। लेकिन भविष्‍य के उस शिखर पर भी पहुंचना चाहते हैं।भविष्‍य के शिखर का सपना लेकर हम चलना चाहते हैं और इसलिए मेरे प्‍यारे देशवासियों मैं आपको एक नई आशा एक नया उमंग, एक नया विश्‍वास देश उसी से चलता है देश उसी से बदलता है और इसलिए मेरे प्‍यारे देश‍वासियों......

अपने मन में एक लक्ष्‍य लिए,

अपने मन में एक लक्ष्‍य लिए,

मंजिल अपनी प्रत्‍यक्ष लिए,

अपने मन में एक लक्ष्‍य लिए,

मंजिल अपनी प्रत्‍यक्ष लिए हम तोड़ रहे है जंजीरें,

हम तोड़ रहे हैं जंजीरें,

हम बदल रहे हैंतस्वीरें,

ये नवयुग है, ये नवयुग है,

ये नवभारत है, ये नवयुग है,

ये नवभारत है।

“खुद लिखेंगे अपनी तकदीर, हम बदल रहे हैं तस्वीर,

खुद लिखेंगे अपनी तकदीर, ये नवयुग है, नवभारत है,

हम निकल पड़े हैं, हम निकल पड़े हैं प्रण करके,

हम निकल पड़े हैं प्रण करके, अपना तनमन अर्पण करके,

अपना तनमन अर्पण करके, ज़िद है, ज़िद है, ज़िद है,

एक सूर्य उगाना है, ज़िद है एक सूर्य उगाना है,

अम्बर से ऊंचा जाना है, अम्बर से ऊंचा जाना है,

एक भारत नया बनाना है, एक भारत नया बनाना है।।”

मेरे प्यारे देशवासियों, फिर एक बार आज़ादी के पावन पर्व पर आपको अनेक- अनेक शुभकामनाएं देते हुए, आइए जय हिंद के मंत्र के साथ उच्च स्वर से मेरे साथ बोलेंगे, जय हिंद, जय हिंद, जय हिंद, जय हिंद, भारत माता की जय, भारत माता की जय, भारत माता की जय, वन्दे मातरम, वन्दे मातरम, वन्दे मातरम, वन्दे मातरम, वन्दे मातरम, वन्दे मातरम।।

 

*****

Read more: Text of Prime Minister Shri Narendra Modi’s...

आज 11 अगस्त है। 110 वर्ष पहले देश की आज़ादी के लिए आज के ही दिन, खुदीराम बोस ने मातृभूमि के लिए अपना सर्वस्व त्याग कर दिया था। मैं उस वीर क्रान्तिकारी को नमन करता हूं, देश की तरफ से उन्हें श्रद्धांजलि देता हूं।

 

साथियों,

आज़ादी के लिए जिन्होंने प्राण दिए, अपना सबकुछ समर्पित किया , वो अमर हो गए, वो प्रेरणा के मूर्ति बन गए | लेकिन हम लोग हैं जिन्हें आज़ादी के लिए मरने का सौभाग्य नहीं मिला, लेकिन हमारा यह भी सौभाग्य हैं की हम आज़ाद भारत के लिए जी सकते हैं, हम देश के आज़ादी को राष्ट्र के नवनिर्माण के लिए जी करके जिन्दगी का एक नया लुत्फ़ उठा सकते है। आज मैं अपने सामने, आप के भीतर, आपके चेहरे पर जो उत्साह देख रहा हूं, जो आत्मविश्वास देख रहा हूँ, वो आश्वस्त करने वाला है कि हम सही रास्ते पर आगे बढ़ रहे हैं।

 

साथियों,

IIT Bombay स्वतंत्र भारत के उन संस्थानों में है जिनकी परिकल्पना टेक्नॉलॉजी के माध्यम से राष्ट्रनिर्माण को नई दिशा देने के लिए की गई थी। बीते 60 वर्षों से आप निरंतर अपने इस मिशन में जुटे हैं। 100 छात्रों से शुरु हुआ सफर आज 10 हज़ार तक पहुंच चुका है। इस दौरान आपने खुद को दुनिया के टॉप संस्थानों में स्थापित भी किया है। यह संस्थान अपनी हीरक जयंति मना रहा हैं, डायमंड जुबली । पर उससे अधिक महतवपूर्ण हैं वे सभी हीरे, जो यहाँ मेरे सामने बठे हैं, जिन्हें आज दीक्षा प्राप्त हो रही हैं, और जो यहाँ से दीक्षा पाकर, पूरी दुनिया में भारत का नाम रोशन कर रहे हैं। आज इस अवसर पर सबसे पहले मैं डिग्री पाने वाले देश-विदेश के विद्यार्थियों को , और उनके परिवारों को हृदयपूर्वक बधाई देता हूं, उनका अभिनंदन करता हूं। आज यहां डॉक्टर रोमेश वाधवानी जी को डॉक्टर ऑफ साइंस की उपाधि भी दी गई है। डॉक्टर वाधवानी को भी मेरी तरफ से बहुत-बहुत बधाई। रमेश जी ने टेक्नॉलॉजी को जन सामान्य की आवश्यकताओं से जोड़ने के लिए उम्रभर काम किया है। वाधवानी फाउंडेशन के जरिए इन्होंने देश में युवाओं के लिए रोज़गार निर्माण, Skill, Innovation और Enterprise का माहौल तैयार करने का बीड़ा उठाया है। एक संस्थान के बतौर ये आप सभी के लिए भी गर्व का विषय है कि यहां से निकले वाधवानी जी जैसे अनेक छात्र-छात्राएं आज देश के विकास में सक्रिय योगदान दे रहे हैं। बीते 6 दशकों की निरंतर कोशिशों का ही परिणाम है कि IIT Bombay ने देश के चुनिंदा Institutions of Eminence में अपनी जगह बनाई है। और अभी आपको बताया गया कि आपको अब एक हज़ार करोड़ रुपए की आर्थिक मदद मिलने वाली है जो आने वाले समय में यहां इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास में काम आने वाला है। इसके लिए भी मैं आपको और पूरी इस टीम को बहुत-बहुत बधाई।

 

The nation is proud of the IITs, and what IIT graduates have achieved. The success of the IITs led to the creation of several engineering colleges around the country. They were inspired by the IITs, and this led to India becoming one of the world’s largest pools of technical manpower. The IITs have built Brand India globally. And they did it over the years. IIT graduates went to America and excelled there: first as students in Universities and then as technology experts, entrepreneurs, executives and in academics. It was a large number of IIT students who built the IT sector in India, brick by brick..or I should say, click by click. Earlier Indians with the IT sector were considered hard working and intelligent - but mainly in other nations, mainly in the US. Now India has become the destination for IT development.

 

And today, IIT graduates are at the forefront of some of the best start-ups in India. These are start-ups that are also at the forefront of solving so many national problems. To those working in the start-up movement or are planning to start one after College, please do remember that the biggest corporations of today were start-ups of yesterday. They were the result of idealism combined with hard-work and diligence. Keep at it, do not give up, and you will succeed.

You are fortunate to have lived in a campus like this, in a city like Mumbai. You have a lake on one side, and the hills too. Occasionally, you share your campus with crocodiles and leopards. It is still August, but I am sure the mood is indigo today! I am sure the last four years were a wonderful learning experience for you all.

 

There is so much to look back and remember the college festivals, inter hostel sports, student-faculty associations. Did I mention some studies as well? You have received what can be called the best that our education system has to offer. Students here represent the diversity of India. From different states, speaking different languages, from different backgrounds, you merge here in pursuit of knowledge and learning.

 

साथियों ,

IIT Bombay देश के उन संस्थानों में से है जो New India की New Technology के लिए काम कर रहा है। आने वाले दो दशकों में दुनिया का विकास कितना और कैसा होगा, ये Innovation और नई टेक्नॉलॉजी तय करेगी। ऐसे में आपके इस संस्थान का, IIT का रोल बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है। चाहे 5G ब्रॉडबैंड टेक्नॉलॉजी हो, Artificial Intelligence हो, Block Chain Technology हो, Big Data Analysis हो या फिर Machine Learning, ये वो तकनीक है जो आने वाले समय में Smart Manufacturing और Smart Cities के विजन के लिए महत्वपूर्ण सिद्ध होने वाली है।

 

अब से कुछ देर बाद जिस नई बिल्डिंग का उद्घाटन होगा, वो भी इस दिशा में अहम साबित होने वाली है। Department of Energy Science and Engineering और Centre for Environmental Science and Engineering इस नई बिल्डिंग में काम करने वाले हैं। ये देखते हुए कि Energy और Environment देश और दुनिया के लिए सबसे बड़ी चुनौती हैं, और मुझे विश्वास है कि आने वाले समय में यहां इन दोनों क्षेत्रों में रिसर्च के लिए बेहतर माहौल बनेगा।

 

मुझे बताया गया है कि इस बिल्डिंग में एक Solar Lab भी स्थापित की जा रही है, जिससे छात्रों को Solar Energy से जुड़ी रिसर्च में सुविधा होगी। Solar Energy के अलावा Biofuel भी आने वाले समय में Clean Energy का एक बहुत बड़ा source सिद्ध होने वाला है। मैंने कल दिल्ली में World Biofuel Day के अवसर पर भी कहा था कि इससे जुड़ी टेक्नॉलॉजी को लेकर इंजीनियरिंग के छोटे से लेकर बड़े संस्थान में पढ़ाई हो, Research हो।

 

साथियों,

IIT को देश और दुनिया Indian Institute of Technology के रूप में जानती है। लेकिन आज हमारे लिए इनकी परिभाषा थोड़ी बदल गई है। ये सिर्फ Technology की पढ़ाई से जुड़े स्थान भर नहीं रह गए हैं, बल्कि IIT आज India’s Instrument of Transformation बन गए हैं। हम जब Transformation की बात करते हैं तो Start Up की जिस क्रांति की तरफ देश आगे बढ़ रहा है, उसका एक बहुत बड़ा Source हमारे IIT हैं। आज दुनिया IIT को Unicorn Start Ups की नर्सरी के रूप में मान रही है। यानि वो स्टार्ट अप अभी भारत में शुरू हो रहे हैं जिनकी भविष्य में Value एक अरब डॉलर से अधिक की होने की संभावना जताई जाती है। ये एक प्रकार से तकनीक के दर्पण हैं, जिसमें दुनिया को भविष्य नज़र आता है।

 

साथियों,

आज दुनिया भर में जितने भी बिलियन डॉलर Start Ups हैं, उनमें दर्जनों ऐसे हैं जिनको IIT से निकले लोगों ने स्थापित किया है। आज अपने सामने मैं भविष्य के ऐसे अनेक Unicorn Founders को देख रहा हूं।

 

Friends,

Innovations and Enterprise are going to be the foundation stone for making India a developed economy. A long term sustainable technology-led economic growth is possible on this foundation.

यही कारण है कि हमने Start Up India और Atal Innovation Mission जैसे अभियान शुरु किए हैं जिनके परिणाम अब मिलने लगे हैं। आज भारत Start Up के क्षेत्र में दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा Ecosystem है। 10 हज़ार से अधिक Start Ups को देश में nurture किया जा रहा है और फंडिंग की भी एक व्यापक व्यवस्था की जा रही है।

 

साथियों,

आज Innovation Index की रैंकिंग में हम निरंतर ऊपर चढ़ रहे हैं। इसका अर्थ ये है कि Education से लेकर Environment तक की जो हमारी Holistic Approach है उसका परिणाम आज दुनिया के सामने आ रहा है। देश में साइंटिफिक टेंपर विकसित करने, रिसर्च का माहौल बनाने के लिए हायर एजुकेशन में इंफ्रास्ट्रक्चर पर विशेष ध्यान दिया गया है।

 

Innovation is the buzzword of the 21st century. Any society that does not innovate will stagnate. That India is a emerging as a hub for start-ups shows that the thrust for innovation is very much there. We must build on this further and make India the most attractive destination for innovation and enterprise. And, this will not happen through Government efforts alone. It will happen through youngsters like you. The best ideas do not come in Government buildings or in fancy offices. They come in campuses like yours, in the minds of youngsters like you.

 

My appeal to you and many other youngsters like you is: Innovate in India, Innovate for humanity.

From mitigating climate change to ensuring better agricultural productivity, From cleaner energy to water conservation, From combating malnutrition to effective waste management. Let us affirm that the best ideas will come from Indian laboratories and from Indian students. On our part, we are doing everything possible to foster a spirit of research and innovation in India.

 

बीते चार वर्षों में 7 नए IIT, 7 नए IIM, 2 IISER और 11 IIIT, स्वीकृत किए गए हैं। इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर बनाने के लिए RISE यानि Revitalisation of Infrastructure and Systems in Education कार्यक्रम शुरु किया गया है। इसके तहत आने वाले चार वर्षों में एक लाख करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य रखा गया है। नए संस्थान, नया इंफ्रास्ट्र्क्चर आवश्यक हैं लेकिन उससे भी ज़रूरी वहां से तैयार होने वाली skilled power है। सरकार इस पर भी ध्यान दे रही है।

 

साथियों,

देश आज हर वर्ष लगभग 7 लाख इंजीनियर कैंपस में तैयार करता है, लेकिन कुछ लोग सिर्फ डिग्री लेकर ही निकलते हैं। उनमें स्किल क्षमता उतनी विकसित नहीं हो पाती। मैं यहां मौजूद शिक्षकों से, बुद्धिजीवियों से आग्रह करता हूं कि इस बारे में सोचें, कैसे क्वालिटी को सुधारा जाए इस पर सुझाव लेकर आएं। Quantity ही नहीं बल्कि Quality भी उच्च स्तर की हो ये सुनिश्चित करना आप सभी की, हम सभी का सामुहिक जिम्मेदारी है। इसके लिए सरकार प्रयास भी कर रही है।

 

आपकी जानकारी में होगा कि सरकार Prime Minister’s Research Fellows योजना चला रही है। इसके तहत हर वर्ष देशभर के एक हज़ार मेधावी इंजीनियरिंग छात्रों को रिसर्च के लिए संसाधन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इतना ही नहीं इस योजना में चयनित छात्रों को पीएचडी के लिए, IIT और IISc जैसे प्रतिष्ठित संस्थान में ही दाखिला मिलने की व्यवस्था होती है । ये Fellowship आपको देश में रहते हुए ही रिसर्च के लिए बेहतरीन सुविधाएं देने का अवसर उपलब्ध करा रही है। IIT Bombay के छात्र-छात्राओं को भी इसका लाभ उठाना चाहिए।

 

साथियों,

यहां जितने लोग भी बैठे हैं, वो या तो शिक्षक हैं या फिर भविष्य के लीडर हैं। आप आने वाले समय में देश के लिए या किसी संस्थान के लिए पॉलिसी मेकिंग के काम में जुड़ने वाले हैं। आप जैसे टेक्नॉलॉजी और Innovation से नए स्टार्ट अप के लिए खुद को तैयार कर रहे हैं। क्या करना है, कैसे करना है, इसके लिए आपका एक निश्चित विजन भी होगा।

 

साथियों,

पुराने तौर-तरीकों को छोड़ना अकसर आसान नहीं होता। समाज और सरकारी व्यवस्थाओं के साथ भी यह समस्या होती है। कल्पना कीजिए की हज़ारों वर्षों से जो आदतें विकसित हुईं, सैकड़ों वर्षों से जो सिस्टम चल रहा था, उनको बदलाव के लिए convince करना कितना मुश्किल काम है। लेकिन जब आपकी सोच और कर्म के केंद्र में Dedication, Motivation और Aspiration होती है तो आप सारी बाधाओं को पार पाने में सफल होते हैं।

 

आज सरकार आप सभी की, देश के करोड़ों युवाओं की आकांक्षाओं को सामने रखकर काम कर रही है। मेरा आप सभी से भी इतना ही आग्रह है कि अपनी असफलता की उलझन को मन से निकालें, सफलता मिलेगी नहीं मिलेगी, करु ना करु , उलझन को निकाले और Aspirations पर फोकस करें। ऊंचे लक्ष्य, ऊंची सोच आपको अधिक प्रेरित करेगी, उलझन आपके Talent को सीमाओं में बांध देगा।

 

साथियों,

सिर्फ आकांक्षाएं होना ही काफी नहीं है, लक्ष्य भी अहम होता है। आप में से आज जो यहां से बाहर निकल रहे हैं या फिर आने वाले सालों में निकलने वाले हैं, आप सभी किसी ना किसी संस्थान से जुड़ने वाले हैं। किसी नए संस्थान की नींव डालने वाले हैं। मुझे उम्मीद है, ऐसे हर कार्य में आप देश की आवश्यकताओं, देशवासियों की जरूरतों का अवश्य ध्यान रखेंगे। ऐसी अनेक समस्याएं हैं जिनका समाधान आप सभी ढूंढ सकते हैं।

 

साथियों,

सवा सौ करोड़ देशवासियों के जीवन को आसान बनाने के लिए, Ease Of Living सुनिश्चित करने के लिए आपके हर प्रयास, हर विचार के साथ ये सरकार खड़ी है, आपके साथ चलने को तैयार है । इसलिए मेरी जब भी आप जैसे छात्रों, वैज्ञानिक बंधुओं, उद्मियों से बात होती है तो मैं IIT जैसे तमाम संस्थानों के इर्दगिर्द City Based Clusters of Science की चर्चा ज़रूर करता हूं। मकसद ये है कि Students, Teachers, Industry, Start Up से जुड़े तमाम लोगों को एक ही जगह पर, एक दूसरे की आवश्यकताओं के हिसाब से काम करने, R&D करने का अवसर मिले। अब जैसे मुंबई के जिस इलाके में आपका संस्थान है, उसे ही लीजिए। मुझे जानकारी दी गई है कि यहां ग्रेटर मुंबई में लगभग 800 कॉलेज और Institutes हैं, जिनमें लगभग साढ़े 9 लाख युवा पढ़ाई कर रहे हैं। आज जब हम यहां Convocation के लिए जुटे हैं, ये इस संस्थान का डायमंड जुबली वर्ष भी है, इस अवसर पर आपको मैं एक संकल्प से जोड़ना चाहता हूं। क्या IIT Bombay, City Based Centre of Excellence का केंद्र बन सकता है?

 

साथियों,

आप भली भांति जानते हैं कि सरकार ने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (IIM) को कानून बनाकर अधिक Autonomy दी है। सरकार ने इस बात पर भी जोर दिया है कि IIM से पढ़कर निकले विद्यार्थी - अलुमनाई, इन संस्थानों में और ज्यादा सक्रिय भूमिका निभाएं। IIM के Board of Governors में भी उनको प्रतिनिधित्व दिया जा रहा है। मैं समझता हूं कि IIT जैसे संस्थानों को भी अपने अलुमनाई के अनुभवों का फायदा उठाने के लिए इस तरह के फैसले पर विचार करना चाहिए। ऐसा होने पर अलुमनाई को भी अपने संस्थान के लिए कुछ बेहतर करने का मौका मिलेगा। मेरे सामने बैठा हर छात्र भविष्य का अलुमनाई है और मेरी इस बात से आप सभी सहमत होंगे कि अलुमनाई एक ऐसी शक्ति है जो इस संस्थान को नई ऊंचाई देने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। मुझे बताया गया है कि सिर्फ IIT Bombay के लिए 50 हजार से ज्यादा अलुमनाई हैं। इनके ज्ञान, इनके अनुभव का बहुत बड़ा फायदा आपको मिल सकता है।

 

साथियों,

यहां पहुंचने के लिए आपने बहुत परिश्रम किया है। आप में से अनेक साथी ऐसे होंगे जो अभावों से जूझते हुए यहां तक पहुंचे हैं। आपमें अद्भुत क्षमता है, जिसके बेहतर परिणाम भी आपको मिल रहा है। लेकिन ऐसे भी लाखों युवा हैं जो यहां आने के लिए परिश्रम करते हैं लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिल पाती। उनमें Talent की कमी है ऐसा नहीं है। अवसरों और गाइडेंस के अभाव में उन्हें ये मौका नहीं मिल पाया है। ऐसे अनेक छात्रों के जीवन में, उनका मार्गदर्शन कर आप एक नई शक्ति , नई चेतना , नई रोशनी ला सकते हैं। ये और भी बेहतर होगा अगर IIT Bombay आस-पास के स्कूलों के लिए Outreach Programme बनाए। छोटे-छोटे बच्चों को यहां कैंपस में लाने का प्रबंध हो ताकि वो साइंटिफिक रिसर्च के लिए प्रेरित हों। आपकी जानकारी में होगा कि अब अटल टिंकरिंग लैब का भी एक बहुत बड़ा अभियान देश के स्कूलों में चलाया जा रहा है। जहां Artificial Intelligence, 3D Printing जैसी नई टेक्नॉलॉजी से बच्चों को परिचित करवाया जा रहा है। स्कूलों में इस प्रकार की Outreach से इस अभियान को भी मदद मिलेगी। संभव है कि नन्हें मस्तिष्क के नवीन विचारों से कभी कभी हम बड़ो को , आप सभी को भी कुछ नई प्रेरणा मिल जाए।

 

साथियों,

आज जो डिग्री आपको मिली है, ये आपके dedication, लक्ष्य के प्रति आपके समर्पण का प्रतीक है। याद रखिए कि ये सिर्फ एक पड़ाव भर है, असली चुनौती आपका बाहर इंतज़ार कर रही है। आपने आज तक जो हासिल किया और आगे जो करने जा रहे हैं, उससे आपकी अपनी, आपके परिवार की, सवा सौ करोड़ देशवासियों की उम्मीदें जुड़ी हैं। आप जो करने वाले हैं उससे देश की नई पीढ़ी का भविष्य भी बनेगा और New India भी मजबूत होगा ।

 

करोड़ों उम्मीदों को पूरा करने में आप सफल हों, इसके लिए एक बार फिर बहुत-बहुत शुभकामनाएं, बहुत बहुत बधाई देता हूँ, आप सबके बीच कुछ समय बिताने का अवसर मिला मैं अपनेआप को धन्य मानता हूँ ।

 

बहुत-बहुत धन्यवाद !

 

 

 

*****

अतुल कुमार तिवारी/ कंचन पतियाल

Read more: Text of PM's address at the 56th Annual...

To fulfill the Governmentof India’s mission to promote the spirit of entrepreneurship in the country, Startup India launched the Startup Academia Alliance programme, a unique mentorship opportunity between academic scholars and startups working in similar domains.

 

The Startup Academia Alliance aims to reduce the gap between scientific research and its industrial applications in order to increase the efficacy of these technologies and to widen their impact. By creating a bridge between academia and industry, the Alliance strives to create lasting connections between the stakeholders of the startup ecosystem and implement the third pillar on which the Startup India Action Plan is based - Industry Academia Partnerships and Incubation.

 

The first phase of Startup Academia Alliance was kickstarted through partnering with Regional Centre for Biotechnology, The Energy and Resources Institute (TERI), Council on Energy, Environment and Water, and TERI School of Advanced Studies. Renowned scholars from these institutes, in fields such as renewable energy, biotechnology, healthcare and life sciences were taken on board to provide mentorship and guidance to startups working in relevant arenas.

 

The applications for Startup Academia Alliance were hosted on the Startup India Hub, a one-stop destination for startups to apply for opportunities such as incubator and accelerator programmes as well as challenges organized by corporate stakeholders, with a user base of more than 2 lakh entrepreneurs and aspiring entrepreneurs from over 433 districts in India. A total of 133 applications from relevant startups were received through the Startup India Hub, out of which,43 were shortlisted by institutes on the basis of operational areas and technological relevance.Emphasis was placed on finding startups that employ innovative solutions to pressing problems in diverse areas.

 

The mentorship sessions have commenced and it is expected that startups will greatly benefit from the expertise and insights brought forth by experienced research scholars working in pertinent fields.

***

 

MM/SB

 

Read more: Startup India’s Academia Alliance Programme

The Prime Minister, Shri Narendra Modi, today addressed the nation from the ramparts of the Red Fort, on the occasion of the 72nd Independence Day.

Asserting that India is today brimming with self-confidence, the Prime Minister mentioned developments such as the success of Navika Sagar Parikrama by six young women naval officers, and the achievements of young Indian sportspersons from humble backgrounds. He mentioned the blooming of Neelakurinji flowers in the Nilgiri hills, a phenomenon that occurs once every 12 years. He said that the recently concluded session of Parliament, was one dedicated to the cause of social justice. He noted that India is now the world’s sixth largest economy.

The Prime Minister paid homage to the freedom fighters and martyrs. He saluted the jawans of the security forces and police forces. He recalled in particular, the martyrs of the Jallianwala Bagh massacre, which happened on Baisakhi day in 1919. He offered condolences to people affected by floods in some parts of the country.

He quoted poet Subramaniam Bharti to say that India will show the world the path to freedom from all kinds of shackles. He said such dreams were shared by countless freedom fighters. And an inclusive Constitution was drafted by Babasaheb Ambedkar to achieve this dream of a nation where there is justice for the poor, and equal opportunities for all to move forward. He said that Indians are now coming together to build the nation. He gave examples of the pace of development in various fields such as toilet construction, electricity reaching villages, LPG gas connections, house construction etc.

He said that the Union Government had taken decisions which had been pending for long, including higher MSP for farmers, GST, and One Rank – One Pension. He said this has become possible because the Union Government has kept national interest supreme.

The Prime Minister mentioned how international organizations and agencies were looking at India very differently today, as compared to 2013. He said that from a time of “policy paralysis”, India had moved to “Reform, Perform, Transform.” He said India is now a member of several important multilateral organizations, and is leading the International Solar Alliance.

The Prime Minister said that the North-East is today in the news for achievements in sports, for connecting the last unconnected villages with electricity, and for becoming a hub of organic farming.

The Prime Minister mentioned 13 crore loans being disbursed under the Mudra Yojana, and four crore loans out of this number, being disbursed to first time beneficiaries of such loans.

The Prime Minister said that India is proud of its scientists. He announced “Gagan-Yaan” a manned space mission, to be undertaken by India by 2022, using its own capabilities. He said India would become the fourth nation in the world to do so.

Reiterating the vision to double farmers’ incomes by 2022, the Prime Minister asserted that the aim is to accomplish tasks which seem extremely difficult. He said initiatives such as Ujjwala Yojana and Saubhagya Yojana are providing dignity to the people. He said organizations such as the WHO have appreciated the progress made in the Swachh Bharat Mission.

Shri Narendra Modi announced the launch of the Pradhan Mantri Jan Arogya Abhiyaan on 25th September this year – the anniversary of Pandit Deendayal Upadhyay. It is high time we ensure that the poor of India get access to good quality and affordable healthcare, he asserted. He said this scheme would positively impact 50 crore people.

The Prime Minister explained how better targeting of government benefits has been achieved by weeding out about 6 crore fake beneficiaries. The honest taxpayer of India has a major role in the progress of the nation, he said, adding that it is due to them that so many people are fed, and the lives of the poor are transformed.

The Prime Minister asserted that the corrupt, and those who have black money would not be forgiven. He said that Delhi’s streets are now free from power brokers, and the voice of the poor is heard.

The Prime Minister announced that women officers of Short Service Commission in the Indian Armed Forces would now be eligible for permanent commission through a transparent selection process.

Noting that the practice of Triple Talaq has caused great injustice among Muslim women the Prime Minister assured Muslim women that he will will work to ensure that justice is done to them.

The Prime Minister spoke of the decline in Left Wing Extremism in the country. He reiterated former Prime Minister Atal Bihari Vajpayee’s vision of “Insaniyat, Jamhooriyat, Kashmiriyat,” for the State of Jammu and Kashmir.

He emphasized on the vision of Housing for All, Power for All, Clean Cooking for All, Water for All, Sanitation for All, Skill for All, Health for All, Insurance for All, and Connectivity for All.

He said that he is impatient, anxious and keen to see India progress, eliminate malnutrition, and to see Indians get a better quality of life.

*****

AKT/VJ/PB

Read more: PM addresses nation from ramparts of Red Fort on...

Union Minister  Shri Raj Kumar Singh, Minister of State (IC), Power and New & Renewable Energy, Government of India, mentioned that business and government must partner for sustainable development of India. He was speaking at the launch of NITI Aayog and CII Partnership on SDGs, at the Government and Business Partnership Conclave in New Delhi on 8 August 2018, organised by NITI Aayog, Confederation of Indian Industry and UN.

The Minister said that in sustainable development three things matter the most: energy, water and circular economy/green industry. To action his 2022 agenda, he expressed confidence that India will achieve its clean energy goals even earlier than 2022 and urged everyone to be conscious and responsible towards the environment.   

Shri Amitabh Kant, CEO, NITI Aayog, in his address highlighted the high pace of urbanisation of India at a time when the countries such as USA and Europe are almost through with this process. Given our population, Shri Kant emphasised, the only way to grow and develop sustainably is to use technology to leapfrog: use new and renewable energy and push for R&D and innovation to generate demand for electric vehicles, hydrogen cars, etc. and to find local solutions for 7 million strong population around the world.’  

Speaking at the occasion, Mr Yuri Afanasiev, UN Resident Coordinator, said that ‘conditions in India are favourable due to its nature, history and demography, to come up with solutions towards a sustainable and circular economy for the world to emulate.’

Shri Rakesh Bharti Mittal, President CII, and Vice Chairman, Bharti Enterprises Ltd stressed that the current theme of CII 2018-19 ‘India RISE: Responsible. Inclusive. Sustainable.’ is aligned with the sustainability agenda.

Shri Chandrajit Banerjee, Director General, Confederation of Indian Industry, mentioned that CII’s nine Centres of Excellence are well-aligned to the SDGs.

CII-NITI Aayog have entered into a three-year partnership and an MoU was signed. This partnership focuses on specific activities that seeks to develop: 1. Vision and Action Agenda for businesses and industries to contribute to SDGs; 2. Annual Status Reports; 3. Sector-specific Best Practise Documents. On this occasion Dr Ashok Kumar Jain, Adviser, NITI Aayog, spoke about the partnership and welcomed CII for innovative initiatives going forward. 

CII launched the report—Indian Solutions for the World to Achieve SDGs. The report deep-dives into each of the SDGs, targets and business implications thereof. The report cites examples that illustrate how companies have incorporated the SDGs framework into their business strategy and gone about achieving them.

Distinguished Participants in the Conclave included senior officials from Ministry of Housing and Urban Affairs, Ministry of Power, Ministry of New and Renewable Energy and Ministry of Drinking Water and Sanitation and representatives of several State governments like Telangana, Andhra Pradesh and Gujarat.

***

AKT/RKC/SK

Read more: NITI Aayog and CII Launch Partnership on SDGs

B. Allocations to NER & Expenditure 2015-16#

Sl. No

Ministry/Department

Revised Estimates (Rs. Crore)

Expenditure

(Rs. Crore)

Expenditure as % of RE

1

Department of Agriculture, Cooperation and Farmers Welfare

922.24

610.9

66.24

2

Department of Agricultural Research and Education

300.00

260.64

86.88

3

Department of Animal Husbandry, Dairying and Fisheries

147.13

110.49

75.10

4

Ministry of Ayurveda, Yoga and Naturopathy, Unani, Siddha and Homoeopathy (AYUSH)

90.00

89.77

99.74

5

Department of Chemicals and Petrochemicals

17.26

17.26

100.00

6

Department of Fertilisers

0.00

0

0.00

7

Department of Pharmaceuticals

21.00

21

100.00

8

Ministry of Civil Aviation

22.00

8.39

38.14

9

Ministry of Coal

30.60

1.55

5.07

10

Department of Commerce

143.00

143

100.00

11

Department of Industrial Policy and Promotion

254.97

255.78

100.32

12

Department of Posts

46.87

30.147

64.32

13

Department of Telecommunications

580.00

398.27

68.67

14

Department of Electronics and Information Technology

270.00

258.71

95.82

15

Department of Consumer Affairs

18.45

18.12

98.21

16

Department of Food and Public Distribution

88.08

87.35

99.17

17

Ministry of Culture

141.70

115.15

81.26

18

Ministry of Defence

29.80

-

 

19

Ministry of Development of North Eastern Region

1973.42

1718.05

87.05

20

Ministry of Drinking Water and Sanitation

1073.20

508.24

47.36

21

Ministry of Environment, Forests and Climate Change

146.29

125.66

85.90

22

Ministry of Food Processing Industries

48.00

16.62

34.63

23

Department of Health and Family Welfare

2579.90

2202.62

85.38

24

Department of Health Research

66.76

33.33

49.93

25

Department of Heavy Industry

83.50

83.5

100.00

26

Department of Public Enterprises

0.79

0.44

55.70

27

Ministry of Home Affairs (all Grants)

700.00

812.11

116.02

28

Ministry of Housing and Urban Poverty Alleviation

106.20

76.71

72.23

29

Department of School Education and Literacy

3925.20

3613.12

92.05

30

Department of Higher Education

1398.33

1392.38

99.57

31

Ministry of Information and Broadcasting

75.00

30.78

41.04

32

Ministry of Labour and Employment

64.17

63.55

99.03

33

Ministry of Law and Justice

80.66

65.66

81.40

34

Ministry of Micro, Small and Medium Enterprises

211.64

198.49

93.79

35

Ministry of Mines

25.54

0.73

2.86

36

Ministry of Minority Affairs

250.84

358.95

143.10

37

Ministry of New and Renewable Energy

24.65

21.87

88.72

38

Ministry of Panchayati Raj

22.00

22

100.00

39

Ministry of Petroleum and Natural Gas

1320.00

-

 

40

Ministry of Power

808.46

4991.62

617.42

41

Ministry of Road Transport and Highways

4000.00

4845.88

121.15

42

Department of Rural Development

3780.50

3239.03

85.68

43

Department of Land Resources

154.00

138.93

90.21

44

Department of Biotechnology

160.68

120.605

75.06

45

Ministry of Shipping

81.00

81

100.00

46

Ministry of Skill Development and Entrepreneurship

100.00

90

90.00

47

Department of Social Justice and Empowerment

229.13

45.11

19.69

48

Department of Empowerment of Persons with Disabilities

54.00

38.33

70.98

49

Ministry of Statistics and Programme Implementation

21.50

20.99

97.63

50

Ministry of Textiles

331.54

302.33

91.19

51

Ministry of Tourism

85.00

167.07

196.55

52

Ministry of Tribal Affairs

429.22

580.32

135.20

53

Ministry of Urban Development

100.00

100

100.00

54

Ministry of Water Resources, River Development and Ganga Rejuvenation

213.60

943.75

441.83

55

Ministry of Women and Child Development

1731.80

1728.21

99.79

56

Ministry of Youth Affairs and Sports

89.60

87.3

97.43

 

Total

29669.22

31291.81

105.46

# figures are provisional and subject to final vetting by Ministry of Finance.

Read more: Provision for proper utilisation of funds in the...

The index for this major group rose by 0.1 percent to 117.4 (provisional) from 117.3 (provisional) for the previous month. The groups and items which showed variations during the month are as follows:-


The index for ‘Manufacture of Food Products’ group rose by 0.4 percent to 129.0 (provisional) from 128.5 (provisional) for the previous month due to higher price of gram powder (besan) (8%), maida, castor oil, sugar and mustard oil (4% each), sooji (rawa) (3%), gur, wheat flour (atta), manufacture of processed ready to eat food and manufacture of cocoa, chocolate & sugar confectionery (2% each) and cotton seed oil, basmati rice, groundnut oil, manufacture of macaroni, noodles, couscous & similar farinaceous products, processed tea, manufacture of prepared animal feeds, manufacture of bakery products, rice bran oil, vanaspati and manufacture of health supplements (1% each).  However, the price of molasses (21%), coffee powder with chicory, instant coffee and salt (3% each), powder milk, rice products, honey, palm oil and ice cream (2% each) and copra oil, rice [non-basmati], spices (including mixed spices), ghee, chicken/duck [dressed- fresh/frozen], butter, processing & preserving of fruit & vegetables and processing & preserving of fish, crustaceans & molluscs & products thereof (1% each) declined.


The index for ‘Manufacture of Beverages’ group declined by 0.3 percent to 119.6 (provisional) from 119.9 (provisional) for the previous month due to lower price of aerated drinks/soft drinks (incl. soft drink concentrates) (2%). However, the price of bottled mineral water (2%) and country liquor, rectified spirit and wine (1% each) moved up.


The index for ‘Manufacture of Tobacco Products’ group declined by 0.7 percent to 149.3 (provisional) from 150.3 (provisional) for the previous month due to lower price of other tobacco products (4%).  However, the price of cigarette (2%) moved up.


The index for ‘manufacture of Textiles’ group rose by 1.0 percent to 117.1 (provisional) from 115.9 (provisional) for the previous month due to higher price of manufacture of knitted & crocheted fabrics (2%) and cotton yarn, synthetic yarn,  weaving & finishing of textiles, woollen yarn, viscose yarn and manufacture of cordage, rope, twine & netting (1% each).


The index for ‘Manufacture of Wearing Apparel’ group declined by 0.7 percent to 138.2 (provisional) from 139.2 (provisional) for the previous month due to lower price of manufacture of knitted & crocheted apparel (3%).


The index for ‘Manufacture of Leather and Related Products’ group rose by 0.9 percent to 123.0 (provisional) from 121.9 (provisional) for the previous month due to higher price of vegetable tanned leather (6%), belt & other articles of leather and chrome tanned leather (2% each) and plastic/pvc chappals, leather shoe, canvas shoes and harness, saddles & other related items (1% each).


The index for ‘Manufacture of Wood and of Products of Wood and Cork’ group declined by 0.8 percent to 132.0 (provisional) from 133.1 (provisional) for the previous month due to lower price of wooden box/crate (2%) and wooden panel, lamination wooden sheets/veneer sheets and wood cutting, processed/sized (1% each).  However, the price of wooden block-compressed or not and timber/wooden plank, sawn/resawn (1% each) moved up.


The index for ‘Manufacture of Paper and Paper Products’ group rose by 0.9 percent to 121.8 (provisional) from 120.7 (provisional) for the previous month due to higher price of paper bag including craft paper bag (11%), paper carton/box (4%), corrugated paper board, duplex paper, base paper and laminated paper (2% each) and corrugated sheet box, bristle paper board, pulp board and newsprint (1% each).


The index for ‘Printing and Reproduction of Recorded Media’ group declined by 0.8 percent to 145.3 (provisional) from 146.4 (provisional) for the previous month due to lower price of printed books (2%) and printed labels/posters/calendars (1%).  However, the price of hologram (3d) (2%) and journal/periodical, sticker plastic and printed form & schedule (1% each) moved up.


The index for ‘Manufacture of Chemicals and Chemical Products’ group rose by 0.1 percent to 118.1 (provisional) from 118.0 (provisional) for the previous month due to higher price of menthol (17%), fungicide, liquid (7%), hydrogen peroxide (5%), sulphuric acid and carbon black (4% each), shampoo, ammonium sulphate and toilet soap (3% each), organic surface active agent, aromatic chemicals, nitrogenous fertilizer, others, di ammonium phosphate, acrylic fibre, ammonium phosphate, phthalic anhydride, printing ink and adhesive tape (non-medicinal) (2% each) and additive, polyester chips or polyethylene terepthalate (pet) chips, ethyl acetate, organic solvent, amine, superphospate/phosphatic fertilizer, others, detergent cake, washing soap cake/bar/powder, plasticizer, polyester film (metalized), alkyl benzene, other petrochemical intermediates, polystyrene, expandable and ammonia liquid (1% each).   However, the price of mosquito coil (10%), nitric acid (5%), caustic soda (sodium hydroxide) and varnish (all types) (4% each), gelatine and paint (2% each) and adhesive excluding gum, camphor, polyethylene, perfume/scent, sodium silicate, insecticide & pesticide, tooth paste/tooth powder, explosive, agro chemical formulation, mono ethyl glycol and alcohols (1% each) declined.


The index for ‘Manufacture of Pharmaceuticals, Medicinal Chemical and Botanical Products’ group declined by 0.1 percent to 121.8 (provisional) from 121.9 (provisional) for the previous month due to lower price of anti allergic drugs (2%) and medical accessories and antiseptics & disinfectants (1% each).  However, the price of antipyretic, analgesic, anti-inflammatory formulations (5%), vaccine for hepatitis-B (3%), antidiabetic drug excluding insulin (i.e. tolbutam), plastic capsules, sulpha drugs and antioxidants (2% each) and cotton wool (medicinal) and anti-retroviral drugs for HIV treatment (1% each) moved up.


The index for ‘Manufacture of Rubber and Plastics Products’ group rose by 0.4 percent to 109.4 (provisional) from 109.0 (provisional) for the previous month due to higher price of plastic button (9%), polythene film and polyester film (non-metalized) (4% each), rubber cloth/sheet, conveyer belt (fibre based), elastic webbing and rubber crumb (3% each), solid rubber tyres/wheels (2%) and plastic tube (flexible/non-flexible), 2/3 wheeler rubber tube, plastic film, plastic tank, acrylic/plastic sheet, V belt, rubberized dipped fabric, polypropylene film, medium & heavy commercial vehicle tyre, plastic furniture and plastic bottle (1% each). However, the price of PVC fittings & other accessories (2%) and tractor tyre, processed rubber and plastic box/container (1% each) declined.


The index for ‘Manufacture of Other Non-Metallic Mineral Products’ group rose by 0.4 percent to 115.7 (provisional) from 115.2 (provisional) for the previous month due to higher price of graphite rod (6%), non ceramic tiles (3%), pozzolana cement (2%) and railway sleeper, ordinary portland cement, marble slab, glass bottle, asbestos corrugated sheet and white cement (1% each).  However, the price of porcelain sanitary ware (8%), toughened glass (4%) and ceramic tiles (vitrified tiles), slag cement and plain bricks (1% each) declined.


The index for ‘Manufacture of Basic Metals’ group declined by 0.8 percent to 112.1 (provisional) from 113.0 (provisional) for the previous month due to lower price of steel forgings-rough (7%), stainless steel pencil ingots/billets/slabs (6%), alloy steel castings (4%), MS pencil ingots and stainless steel coils, strips & sheets (3% each), aluminium ingot, mild steel (MS) blooms, brass metal/sheet/coils, MS bright bars and aluminium metal (2% each) and pig iron, stainless steel tubes, aluminium powder, aluminium shapes-bars/rods/flats, alloy steel wire rods, aluminium alloys, angles, channels, sections, steel (coated/not), ferromanganese, silicomanganese, MS castings and cold rolled (CR) coils & sheets, including narrow strip (1% each).  However, the price of galvanized iron pipes (3%), rails and ferrochrome (2% each) and alumnium foil, MS wire rods, stainless steel bars & rods, including flats, aluminium disk and circles, lead ingots, bars, blocks, plates, sponge iron/direct reduced iron (DRI) and hot rolled (HR) coils & sheets, including narrow strip (1% each) moved up.


The index for ‘Manufacture of Fabricated Metal Products, Except Machinery and Equipment’ group rose by 0.5 percent to 114.6 (provisional) from 114.0 (provisional) for the previous month due to higher price of forged steel rings (5%), hand tools (4%), steel drums and barrels, bracket and steel structures (2% each) and bolts, screws, nuts & nails of iron & steel, steel container and stainless steel tank (1% each). However, the price of sanitary fittings of iron & steel (14%), electrical stamping- laminated or otherwise (4%), steel door (2%) and stainless steel razor (1%) declined.

 

The index for ‘Manufacture of Computer, Electronic and Optical Products’ group declined by 0.4 percent to 110.9 (provisional) from 111.3 (provisional) for the previous month due to lower price of colour TV, capacitors and air conditioner (1% each). However, the price of electro-diagnostic apparatus, used in medical, surgical, dental or veterinary sciences and electronic printed circuit board (pcb)/micro circuit (1% each) moved up.


The index for ‘Manufacture of Electrical Equipment’ group rose by 0.1 percent to 111.7 (provisional) from 111.6 (provisional) for the previous month due to higher price of ACSR conductors and connector/plug/socket/holder-electric (2% each) and fibre optic cables, light fitting accessories, fan, electric switch, refrigerators, electric switch gear control/starter and electric wires & cables (1% each).  However, the price of solenoid valve and aluminium wire (3% each), electric & other meters (2%) and electrical resistors (except heating resistors), insulator, electrical relay/conductor, pvc insulated cable, washing machines/laundry machines and rubber insulated cables (1% each) declined.


 

 

The index for ‘Manufacture of Machinery and Equipment’ group rose by 0.2 percent to 110.5 (provisional) from 110.3 (provisional) for the previous month due to higher price of drilling machine and packing machine (3% each), printing machinery, open end spinning machinery, cranes, oil pump and machinery for plastic products-extruded (2% each) and water purifier, agriculture implements, soil preparation & cultivation machinery (other than tractors), hydraulic pump, agricultural tractors, grinding or polishing machine, precision machinery equipment/form tools, lathes, centrifugal pumps and conveyors-non-roller type (1% each).  However, the price of solar power system (solar panel & attachable equipment) and pressure vessel & tank for fermentation & other food processing (6% each), chillers (5%), pump sets without motor (3%) and injection pump, chemical equipment & system, roller mill (raymond), pneumatic tools, hydraulic equipment, gasket kit, excavator, air gas compressor including compressor for refrigerator, pharmaceutical machinery and mining, quarrying & metallurgical machinery/parts (1% each) declined.


The index for ‘Manufacture of Motor Vehicles, Trailers and Semi-Trailers’ group rose by 0.5 percent to 112.5 (provisional) from 111.9 (provisional) for the previous month due to higher price of brake pad/brake liner/brake block/brake rubber, others (4%), crankshaft (3%), cylinder liners (2%) and passenger vehicles, minibus/bus, piston ring/piston & compressor, gear box and parts, body (for commercial motor vehicles), head lamp and chain (1% each).   However, the price of seat for motor vehicles (2%) and release valve (1%) declined.


The index for ‘Manufacture of Other Transport Equipment’ group rose by 0.3 percent to 110.8 (provisional) from 110.5 (provisional) for the previous month due to higher price of auto rickshaw/tempo/matador/three wheelers (2%) and scooters, propellers & blades of boats/ships  and bicycles of all types (1% each).

 

The index for ‘Manufacture of Furniture’ group declined by 1.9 percent to 125.1 (provisional) from 127.5 (provisional) for the previous month due to lower price of foam and rubber mattress (11%) and hospital furniture (1%).  However, the price of wooden furniture (1%) moved up.

 

The index for ‘Other Manufacturing’ group declined by 2.1 percent to 104.7 (provisional) from 106.9 (provisional) for the previous month due to lower price of playing cards, silver and cricket ball (4% each), stringed musical instruments (incl. santoor, guitars, etc.) and intraocular lens (3% each), gold & gold ornaments (2%) and carrom board and football (1% each). However, the price of sports goods of rubber (incl. balls) (1%) moved up.

Read more: Index Numbers of Wholesale Price in India (Base:...

The Prime Minister, Shri Narendra Modi, on Tuesday reviewed progress of key infrastructure sectors of power, renewable energy, petroleum and natural gas, coal, and mining. The review meeting, which lasted for over two hours, was attended by top officials from  infrastructure-related Ministries, NITI Aayog, and PMO. 

In course of the presentation made by CEO NITI Aayog, Shri Amitabh Kant, it was noted that the installed power generation capacity in India has risen to 344 GigaWatts. India's energy deficit, which stood at over 4 per cent in 2014, has shrunk to less than 1 per cent in 2018. Significant capacity additions have been made in transmission lines, transformer capacity, and inter-regional transmission. India now ranks 26th in the World Bank's "Ease of Getting Electricity" Index, up from 99th in 2014. Progress in household electrification under the SAUBHAGYA initiative, was reviewed. Discussions also focused on last mile connectivity and distribution, in both urban and rural areas. In the new and renewable energy sector, cumulative installed capacity has nearly doubled, from 35.5 GigaWatts in 2013-14, to about 70 GigaWatts in 2017-18. In solar energy, installed capacity has increased from 2.6 GigaWatts to 22 GigaWatts in the same period. Officials expressed confidence that India is on track to comfortably achieve the Prime Minister's target of 175 GigaWatts renewable energy capacity by 2022. 

The Prime Minister urged the officials to work towards ensuring that the benefits from increase in solar energy capacity, reach the farmers, through appropriate interventions such as solar pumps, and user-friendly solar cooking solutions. In the petroleum and natural gas sector, it was noted that targets set under the Pradhan Mantri Ujjwala Yojana will be comfortably achieved in the current financial year. In the coal sector, discussions focused on further augmentation of production capacity. 

*****

AKT/KP

Read more: PM reviews performance of key infrastructure...

India’s Nationally Determined Contributions (NDCs), as submitted to the United Nations Framework Convention on Climate Change (UNFCCC) under Paris Climate Agreement, inter-alia, include achieving about 40 percent cumulative electric power installed capacity from non-fossil fuel based energy resources by 2030.

 

India has taken various initiatives, including setting up of National Solar Mission and announcing target of installing 175 GW of renewable energy capacity by 2022 for increasing share of carbon free energy in the energy mix. The Government is confident of achieving the target of 175 GW of renewable energy capacity by 2022.

 

This information was provided by Shri R.K. Singh, Union Minister of State (IC) Power and New & Renewable Energy in written reply to a question in Lok Sabha today.

*****

JN/RP

Read more: Power generation capacity from renewable energy...

The Union Home Minister Shri Rajnath Singh has said the rollout of the Smart City projects will help New Delhi emerge as a world class city. Inaugurating a slew of Smart City projects undertaken by the New Delhi Municipal Council (NDMC) here today, Shri Rajnath Singh said the NDMC has set an example before other aspiring Smart Cities in the country to follow. He recalled that New Delhi was among the 20 cities included in January, 2016 in the First Phase of the Smart City Mission announced by the Prime Minister Shri Narendra Modi.

The various projects inaugurated by Shri Rajnath Singh include Smart Poles, Solar Tree, Ideation Centre, 50 LED interactive screens, Ambedkar Vatika and two hi-tech nurseries, four mechanical road sweepers, two litter picking machines and ten auto tippers. He also launched MTNL’s hi-speed Broadband on Optical Fiber & Hi-Speed Wi-Fi in Connaught Place.

Union Minister of State for Communications (I/C) and Railways, Shri Manoj Sinha, Union MoS (I/C) Housing and Urban Affairs, Shri Hardeep Singh Puri, Lt. Governor of Delhi, Shri Anil Baijal and Lok Sabha MP, Smt. Meenakshi Lekhi were present on the occasion.

******

BB/NK/PK/KGS/SS

 

Read more: Shri Rajnath Singh inaugurates NDMC Smart City...

With a view to exploring the roles and contributions of the business sector in the implementation of SDGs in India, NITI Aayog, United Nations in India and the Confederation of Indian Industries (CII) are jointly organizing a Government and Business Partnership Conclave on 8th August 2018 at Pravasi Bharatiya Kendra, Chanakyapuri, New Delhi.

The conclave will focus on the interrelated sectors of water, energy and green industry. Objectives of the Conclave are as follows:

  • Facilitate deliberation on key thematic areas and issues around Water, Energy and Green Industry in the Indian context;

  • Generate clarity about the responsibilities and contributions of businesses and industries towards implementation of SDGs, particularly in the context of selected theme areas and sustainability issues involved;

  • Highlight best practices from businesses and industries, and explore strategies and ways forward to achieve the related SDG targets;

  • Identify opportunities for partnership between the business sector and the Government at various levels in sectoral/intersectoral areas of water, energy and green industry.

Participants in the conclave includes Senior Central and State Government officials, CEOs and senior executives of industries in the relevant sectors, experts and resource organisations and other related stakeholders.

The Conclave will be inaugurated by Shri Raj Kumar Singh, Hon’ble Minister of State (Independent Charge), Power and New and Renewable Energy, Government of India. Shri Amitabh Kant, CEO, NITI Aayog will be addressing the inaugural session along with Shri Yuri Afanasiev, the United Nations Resident Coordinator in India. Shri Rakesh Bharti Mittal, President CII, and Vice Chairman, Bharti Enterprises Ltd. and Shri Chandrajit Banerjee, Director General, CII will be part of the inaugural session.

The Conclave will have three technical sessions covering sectors of Water, Energy and Green Industry chaired by Secretaries of Government of India.

The First Session will be on “Green Industry: Innovations, Initiatives and Sustainability” followed by sessions on “Water: Uses, Management and Ecosystem Protection” and “Energy: Managing Demands and Sustainability”

***

AKT/HS

Read more: Niti Aayog to organise Government and Business...

The cost of generating solar power depends, inter alia, upon intensity of radiation, size of the solar plant, cost of financing, etc. The tariff for solar power is now being determined largely through tendering process. For installation of rooftop solar PV projects, the Ministry of New and Renewable Energy (MNRE) has worked out benchmark cost as follows:

 

•        Upto 10 kWp : Rs. 60,000/- per kW

•        10 kWp – 100 kWp : Rs. 55,000/- per kW

•        100 – 500 kWp : Rs. 53,000/- per kW

 

The Ministry of New & Renewable Energy is implementing Grid Connected Rooftop and Small Solar Power Plants Programme, wherein, Central Financial Assistance (CFA) is being provided for installation of rooftop solar PV plants in residential, institutional and social sectors. The CFA is upto 30% of the cost arrived through tender process or the benchmark cost prescribed by MNRE, whichever is less, in case of general category states/UTs and upto 70% in case of special category states/UTs.

 

This information was provided by Shri R.K. Singh, Union Minister of State (IC) Power and New & Renewable Energy in written reply to a question in Lok Sabha today.

*****

JN/RP

Read more: Cost of generation of solar power

More Articles ...

Advertisement

Translator

Advertisement
Advertisement

SolarQuarter Tweets

Follow Us For Latest Tweets

SolarQuarter Announcing: Participating Companies At India's Largest Electric Vehicle & Smart Mobility Event_ Grab Your Passes No… https://t.co/5bvIrR19N1
About 21 hours ago
SolarQuarter Meet 2018 Award Winners: Solar PV ModuleTECH Awards 2018_Heartiest Congratulations! - https://t.co/4cBviyv7wb
Thursday, 16 August 2018 12:52
SolarQuarter EMobility Week India 2018 Only 36 Seats Remain! Secure Your Spot! 23 Aug 2018_New Delhi - https://t.co/mmAuUGkxCd
Saturday, 11 August 2018 08:23

Advertisement